Home Rising At 8am Bhagwa Color In Lucknow City

दिल्लीः स्कूल वैन-दूध टैंकर की टक्कर, दर्जन से ज्यादा बच्चे घायल, 4 गंभीर

पंजाबः गियासपुर में गैस सिलेंडर फटा, 24 घायल

कुशीनगर हादसाः पीएम मोदी ने घटना पर दुख जताया

बंगाल पंचायत चुनाव में हिंसाः बीजेपी करेगी 12.30 बजे प्रेस कांफ्रेंस

कुशीनगर हादसे में जांच के आदेश दिए हैं- पीयूष गोयल, रेल मंत्री

भगवा बयार में बैकफुट पर सरकार  

| Last Updated : 2018-01-07 10:14:52
  • बस से लेकर थाने तक रंगे भगवा रंग
  • हज हाउस से लेकर सचिवालय तक रंगे नारंगी
  • हज हाउस के भगवा रंग का ठीकरा ठेकेदार पर

Bhagwa Color in Lucknow City


दि राइजिंग न्‍यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

 

करीब आठ दशक पुरानी 1939 में बनी कैसरबाग कोतवाली। कभी हरे रंग की हुआ करती थी। अमूमन बनने के बाद से ही इसका रंग हरा ही था। यहां तक कोतवाली में कक्षों पर लगे पर्दे भी हरे ही रंग के थे मगर अचानक ही अचानक ही पुलिस अधिकारियों को नारंगी रंग से ऐसा प्यार जागा कि कोतवाली का रंग भगवा हो गया। इसके पहले हज हाउस पर भगवा रंग किए जाने को लेकर सरकार विपक्षियों के निशाने पर थीं। यहां तक कि थाने पर मुंशी आदि के बैठने पर वाले स्थान पर बनने वाले डेस्क टाप पर भी नारंगी पत्थर लगवाए जा रहे हैं। हो भी क्यों न, प्रदेश के अल्पसंख्यक मंत्री मोहसिन रजा कहते हैं कि इबादत–पूजा के बाद सुबह सूरज की पहली किरण भी नारंगी होती है। कितना सुकून और ऊर्जा इसी से मिलती है।

 

अब इस पर कोई आपत्ति करें तो क्या किया जा सकता है। हालांकि मंत्री शायद यह नहीं जानते कि सूर्यास्त के वक्त भी आसमान में नारंगी प्रकाश ही बिखरा दिखता है और वही शाम की रौनक बनता है। कमोबेश ऐसा ही शनिवार को भी देखने को मिला जब सरकार बैकफुट पर आ गई। हज कमेटी के कार्यपालक अधिकारी एवं सचिव आरपी सिंह ने हज हाउस पर रंग गाढ़ा होने के लिए ठेकेदार पर जिम्मेदार ठहरा दिया और कार्रवाई का भी दम भरा है।

 

दरअसल प्रदेश में चाक चौबंद कानून व्यवस्था, भ्रष्टाचार मुक्त समाज और सबका साथ सबका विकास के नारे के साथ प्रचंड बहुमत लेकर सत्ता में आने वाली भाजपा सरकार के पिछले नौ महीने सरकारी इमारतों को भगवा करने में ज्यादा व्यस्त दिखीं। नतीजा यह है कि किसान से लेकर सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे तक परेशान है। कड़ाके की ठंड में बच्चे बिना स्वेटर स्कूल जा रहे हैं और किसान अपना आलू मुख्यमंत्री आवास और राजभवन के सामने तक फेंक गए। किसान परेशान है लेकिन सरकार अपनी उपलब्धियों के आंकड़े गिनाने में व्यस्त है। कानून व्यवस्था की हालत भी बहुत बेहतर नहीं कही जा सकती है लेकिन सरकार इसे मानने को कतई तैयार नहीं है। प्रदेश में बेरोजगार परेशान हैं लेकिन सरकार नौ महीने में यूपीएसएसएससी का अध्यक्ष नहीं नियुक्त कर सकीं है। पूर्ववर्ती सरकार में इन पदों पर तैनात लोगों को भ्रष्टाचार में हटा दिया गया लेकिन उसके बाद पद ही खाली हैं। नतीजा भर्ती भी बंद हैं। बेरोजगार परेशान है लेकिन सरकार केवल इमारतों को नारंगी (भगवा रंग) में कराने में जुटी है।

 

 

अचानक ही जागा भगवा प्रेम

भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी कहते हैं कि सरकारी कैसरबाग कोतवाली पर नारंगी (भगवा) रंग कराने के लिए कोई आदेश नहीं जारी हुआ है। किसी को रंग अच्छा लगा उसने करा लिया। भाजपा प्रवक्ता के इस बयान से कम से कम एक बात तो साफ होने लगी है कि प्रदेश में आजकल भगवा प्रेम भी उमड़ पड़ा है। रोडवेज की बसों से शुरुआत हुई और पुलिस थाने तक पहुंच गया है। हज हाउस की बिल्डिंग पर भगवा रंग कराने को लेकर सरकार सवालों के घेरे में है।

 

 

और पीले रंग में हो गया हज हाउस

उधर हज हाउस पर भगवा रंग कराए जाने के बाद विपक्ष के निशाने पर आई प्रदेश सरकार बैकफुट पर आ गई है। शनिवार को उत्तर प्रदेश राज्य समिति के सचिव एवं कार्यपालक अधिकारी आरपी सिंह ने हज हाउस के बाहरी दीवारों पर भगवा रंग को लेकर सफाई देते हुए कहा है कि बाहर की चारदिवारी पर रंग कुछ गाढ़ा हो गया है। यह कार्य निर्देशों के विपरीत किया गया है। इस संबंध में ठेकेदार को नोटिस दे दिया गया है और उसके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जा रही है। बात केवल इतनी ही नहीं रहीं, शनिवार देर शाम तक हज हाउस की दीवारों से नारंगी रंग हवा हो गया। उसकी जगह हज हाउस की दीवारें पीले रंग की नजर आने लगीं।  

 

 

बैकफुट पर आई सरकार

उधर हज हाउस पर भगवा रंग कराए जाने के बाद विपक्ष के निशाने पर आई प्रदेश सरकार बैकफुट पर आ गई है। शनिवार को उत्तर प्रदेश राज्य समिति के सचिव एवं कार्यपालक अधिकारी आरपी सिंह ने हज हाउस के बाहरी दीवारों पर भगवा रंग को लेकर सफाई देते हुए कहा है कि बाहर की चारदिवारी पर रंग कुछ गाढ़ा हो गया है। यह कार्य निर्देशों के विपरीत किया गया है। इस संबंध में ठेकेदार को नोटिस दे दिया गया है और उसके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जा रही है।

विपक्ष के तेवर तीखे

सरकार भले ही इस प्रकरण को लेकर उदासीन दिखे लेकिन अब सरकार की इस मुहिम का विरोध भी मुखर होने लगा है। पूर्व मंत्री आजम खां ने तो इसे उत्पीड़न और अत्याचार बताया। उन्होंने कहा कि अब देखना यह है कि मस्जिदों पर कब भगवा रंग कराया जाएगा। हालांकि उन्होंने इशारों इशारों में इसके दुष्परिणाम की ओर भी इशारा कर दिया। कांग्रेस भी इसे लेकर सरकार की लोगों के बीच वैमनस्य पैदा करने वाली और गुमराह करने वाली सोच का नतीजा करार दे रही है।



" जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...


Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


rising@8AM


Loading...







खबरें आपके काम की