Home rising at 8am 800 Cases Pending

काले धन और भ्रष्टाचार पर हमारी कार्रवाई से कांग्रेस असहज: अरुण जेटली

मुंबई के पृथ्वी शॉ बने दिलीप ट्रॉफी फाइनल में शतक लगाने वाले सबसे कम उम्र के खिलाड़ी

दिल्ली में बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक संपन्न हुई

31 अक्टूबर को रन फॉर यूनिटी का आयोजन होगा: अरुण जेटली

एक निजी संस्था ने हनीप्रीत का सुराग देने वाले को 5 लाख का इनाम देने की घोषणा की

Trending :   #Hot_Photoshot   #Sports   #Politics   #Hollywood   #Bollywood

बूढ़ी-थकी आर्थिक अपराध शाखा

     
  
  rising news official whatsapp number

  • लंबित हैं 800 केस, नहीं निपटाए जा रहे हैं मामले
  • वित्तीय प्रकरणों की जांच में ही घोटाला

800 Cases pending

दि राइजिंग न्‍यूज

04 जनवरी, लखनऊ।

छात्रवृत्ति से लेकर सरकारी अनुदान और भुगतान में अनियमितता की जांच करने वाली एजेंसी ही थकी है। जी हां, बात आर्थिक अपराध शाखा की हो रही है। एक तरफ केंद्र सरकार कालेधन पर सर्जिकल स्ट्राइक करने का दम भर ही है तो मुख्यमंत्री भ्रष्टाचार मुक्त प्रदेश बनाने का दम भर रहे हैं। मगर हकीकत उलट है। प्रदेश में आर्थिक अपराधों की जांच के लिए इकाई तो है लेकिन इसमें जो अधिकारी हैं वे बस सेवानिवृत्त होने के दिन गिन रहे हैं। यानी अपनी नौकरी के अंतिम पड़ाव पर हैं।


सरकार की गंभीरता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पुलिस में सेवानिवृत्ति के करीब पहुंचने वाले अधिकारियों को यहां तैनाती दे दी जाती है। यहां तैनात अधिकारियों की औसत आयु 56 वर्ष या इससे अधिक है। इसका असर जांच में पड़ रहा है। यहां पर करीब 800 से अधिक केस लंबित पड़े हैं। विभाग में तकनीक जानकारी न होने के कारण नए जांच अधिकारियों को काफी दिक्‍कतों का सामना करना पड़ रहा है। इकाई में कई विभागों की जांच हो रही है। पहले से ही लंबित पड़े केस के कारण जांच लंबी होती है। इंस्‍पेक्‍टरों को बेहतर तकनीकी जानकारी न होने के कारण आरोप सिद्ध होने में समय लग रहा है। इससे आरोपियों को मौज करने का पूरा समय भी मिल जाता है। कई बार जब जांच अंतिम पड़ाव पर पहुंचती है तब तक कई आरोपी घोटाले की रकम खा-पीकर दुनिया से ही जा चुके होते हैं।


22 अधिकारी

आर्थिक अपराध इकाई में लबित मामलों को देखते हुए 108 जांच अधिकारियों की जरूरत है लेकिन वर्तमान में केवल 22 जांच अधिकारी ही हैं। केस की जांच इंस्‍पेक्‍टर रैंक का अधिकारी करता है। पुलिस महानिदेशक जावीद अहमद से अधिकारियों की मांग की गई है। चुनाव के बाद इस समस्‍या के समाधान होने की उम्‍मीद की जा रही है।


तकनीकी जानकारी का अभाव

जांच अधिकारियों को बैंकिंग लेजर पढ़ने, डेबिड-क्रेडिट की जानकारी, अन्‍य अभिलेखों के विश्‍लेषण करने जैसी कई तकनीकी जानकारी होनी चाहिए। हालांकि ऐसी विशेषता न होने के कारण जांच में असर पड़ता है और अधिकारी को समस्‍याओं का सामना करना पड़ता है। हाल ही में कई ऐसे इंस्‍पेक्‍टर आ गए हैं जो ऐसी शब्‍दावली नहीं समझ पा रहे हैं।


लंबी चलती हैं जांचे

इकाई में विभिन्‍न विभागों में हुए फ्रॉड और गबन जैसे केस आते हैं। अधिकतर केसों में जांच अधिकारी को प्रदेश के कई जिलों में जाना होता है। एक-एक बिंदु की जांच और उसके विश्‍लेषण जैसी चीजों के चलते खुलासे में काफी समय लगता है। नाम न छापने की शर्त पर एक अधिकारी ने बताया कि जांच के घेरे में आए विभाग भी अपनी भूमिका का निर्वाहन ठीक ढंग से नहीं करते। यदि उनके विभाग के अभिलेखों की जांच करनी हो तो वह उसे देने में भी अनदेखी करते रहते हैं। कई-कई बार पत्राचार भी किया जाता है लेकिन उदासीनता ही हाथ आती है। अभिलेख न देने पर कानूनी कार्रवाई जैसी व्‍यवस्‍था न होने से जांच लंबी चलती है और मामले निपटाने में देरी होती है। 



जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

संबंधित खबरें

HTML Comment Box is loading comments...

 


Content is loading...



What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll



Photo Gallery
जय माता दी........नवरात्र के लिए मॉ दुर्गा की प्रतिमा को भव्‍य रूप देता कलाकार। फोटो - कुलदीप सिंह

Flicker News


Most read news

 



Most read news


Most read news


खबर आपके शहर की