Home Personality A Day With Jack Ma

इलाहाबादः BJP विधायक संजय गुप्ता की गाड़ी सीज करने वाले दरोगा सस्पेंड

PNB घोटाला: मेहुल चोकसी के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज की चार्जशीट

MP चुनाव: कांग्रेस को-ऑर्डिनेशन कमेटी के चेयरमैन नियुक्त हुए दिग्विजय सिंह

जोधपुरः 3 मंजिला इमारत ढही, मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका

लालू प्रसाद आज शाम होंगे मुंबई रवाना, हृदय रोग का करवाएंगे इलाज

अपनी मेहनत और लगन से हासिल किया अलग मुकाम

personality | Last Updated : 2018-02-23 15:48:22

 A Day With Jack Ma


दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।  

हम जब भी चीन का नाम सुनते हैं तो हमारे दिमाग में जैकी चेन, ब्रूसली, ग्रेट वाल ऑफ़ चाइना जैसी चीज़े आती हैं, लेकिन पिछले कुछ वर्षो में तकनीकी के क्षेत्र में एक ऐसा नौजवान सामने आया जिसने तकनीक की दुनिया में चीन को एक अलग मुकाम पर पहुंचा दिया।  जी हां हम बात कर रहे हैं अलीबाबा ग्रुप के जैक मा की, जिन्होंने अपने हुनर की बदौलत चीन को तकनीकी के क्षेत्र अग्रणी बना दिया।   

शुरूआती जीवन

जैक मा का जन्म चीन के ज़ेजिआंग प्रान्त के हन्हाजु गांव में हुआ।  जैक के मां-बाप कहानियां सुनाने का काम किया करते थे।  जैक को बचपन से ही अंग्रेजी सीखने की इच्छा हो गयी थी, जिसकी वजह से वो प्रतिदिन सुबह साइकिल से पास के होटल पर जाते थे जहां अक्सर विदेशी नागरिक ठहरते थे, ताकि उनको देख कर जैक अंग्रेजी सीख सकें।  

जैक ने हंजाऊ टीचर्स इंस्टिट्यूट में दाखिला लिया, जहां से 1988 में उन्होंने अंग्रेजी में स्नातक परीक्षा उतीर्ण की।  स्नातक के बाद में वो हंजाऊ यूनिवर्सिटी में अंग्रेजी और अंतरराष्ट्रीय  व्यापार के लेक्चरर बन गये।

जैक मा का करियर

जैक मा के करियर की शुरुआत काफी कठिन रही।  जैक ने नौकरी पाने के लिए 30 अलग-अलग जगहों पर नौकरी के लिए आवेदन किये लेकिन हर बार उन्हें निराशा ही हाथ लगी ।  इससे पता चलता है कि उन्होंने अपने करियर की शुरुआत में कितनी ठोकरे खाईं थीं।

पहली बार जब जैक को इंटरनेट चलाने का मौका मिला तो उन्होंने अपने देश चीन के बारे में सर्च किया लेकिन उनको ये जान कर दुःख हुआ कि उनके देश ने अभी इतनी तरक्की नहीं की है। तभी जैक ने निर्णय लिया की उनको कुछ ऐसा करना है जिससे उनका देश भी लोगों की नज़र में आए।

1995 में जैक, उनकी पत्नी और दोस्तों ने मिलकर 20,000 डॉलर इकट्ठे किये और एक कम्पनी की शुरुआत की।  इस कम्पनी का मुख्य काम दूसरी कंपनियों के लिए वेबसाइट बनाना था।  उन्होंने अपनी कम्पनी का नाम “China Yellow Pages” रखा।  तीन साल के अंदर उनकी कम्पनी ने 8 लाख डॉलर कमाए।

मा ने पहली बार 33 वर्ष की उम्र में अपना पहला कंप्यूटर खरीदा।  1998 से 1999 में जैक ने China International Electronic Commerce Center द्वारा स्थापित एक IT कम्पनी की अध्यक्षता का कार्य किया।  1999 में उन्होंने वहां से काम छोड़ दिया और हंजाऊ अपनी टीम के साथ लौट आये,  जहां उन्होंने अपने 17 दोस्तों के साथ मिलकर अपने घर से चीन की पहली B2B वेबसाइट अलीबाबा की स्थापना की।  उन्होंने अलीबाबा के द्वारा एक इतिहास रच दिया, जो उन्होंने 5 लाख युवान से शुरू की और जिसके 79 मिलियन सदस्य 240 से ज्यादा देशो में फैले हुए है।

अक्टूबर 1999 और जनवरी 2000 में अलीबाबा ने दो बार 25 मिलियन डॉलर का  international venture capital investment जीता था। अपने इस प्रोग्राम से वो अपने देश के  e-commerce मार्किट में सुधार लाना चाहते थे, जो छोटे और मध्यमवर्गीय व्यवसायों को विश्व स्तर पर लेकर जाए।   Global e-commerce system को सुधारन के लिए 2003 में जैक मा ने Taobao Marketplace की स्थापना की , जिसके बढ़ते प्रभाव को देखते हुए eBay ने इसे खरीदने का ऑफर दिया।  जैक मा ने eBay का प्रस्ताव ठुकरा दिया और इसकी बजाय उसने याहू के को-फाउंडर जेरी से 1 बिलियन डॉलर की सहायता ली।

सितम्बर 2014 के आंकड़ो के अनुसार अलीबाबा ने New York Stock Exchange  में 25 बिलियन डॉलर की कम्पनी खडी कर दी।

जैक मा की उपलब्धियां

  • 2004 में जैक मा को China Central Television द्वारा Top 10 Business Leaders of the Year चुना गया ।
  • 2005 में जैक मा को वर्ल्ड इकनोमिक फोरम द्वारा Young Global Leader चुना गया और फार्च्यून पत्रिका में 25 Most Powerful Business people in Asia में नाम दिया गया ।
  • 2007 में बिज़नस वीक पर उन्हें Businessperson of the Year चुना गया ।
  • 2008 में जैक मा को World’s Best CEOs की 30 लोगों की लिस्ट में चुना गया ।
  • 2009 में टाइम मैगज़ीन द्वारा जैक को विश्व के “100 सबसे प्रभावशाली व्यक्तियों” की सूची में रखा गया और इसी साल उन्हें फ़ोर्ब्स चीन की तरफ से Top 10 Most Respected Entrepreneurs in China चुना गया ।

  • 2010 में जैक मा को फ़ोर्ब्स एशिया द्वारा प्राकुतिक आपदा प्रबधन और गरीबी उन्मूलन कार्यो के लिए Asia’s Heroes of Philanthropy में से एक चुना गया ।
  • 2013 में जैक मा को Hong Kong University of Science and Technology द्वारा डॉक्टरेट की उपाधि दी गयी ।
  • 2014 में फ़ोर्ब्स द्वारा विश्व के पशक्तिशाली व्यक्तियों की सूची में 30वा स्थान दिया गया ।
  • 2015 में जैक को The Asian Awards में Entrepreneur of the Year से नवाजा गया ।
  •  


" जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...


Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


rising@8AM


Loading...