Sonam Kapoor to Play Batwoman

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्‍क।

 

जहां भारत में “कॉपीराइट” को लेकर बहस शुरू होने से पहले ही सब चलता है कहकर खत्म कर दी जाती है, वहीं दुनिया में कुछ ऐसे देश भी हैं जहां इसे बड़ा अपराध माना जाता है। इसके लिए यहां कड़े नियम कानून बनाए गए हैं। जी, हां अगर आप इनके बारे में जान लें तो हैरान रह जाएंगे।

वैसे इस कानून की नींव सबसे पहले ब्रिटेन ने रखी। यहां सबसे पहले अपनी रचना को चोरी से बचाने के लिए 1662 में “लायसेंसिग ऑफ प्रेस एक्ट” लाया गया। 

ब्रिटिश संसद ने कानून बनाया

ब्रिटिश संसद ने इस डिमांड को समझा और यह कानून बनाया। आगे चलकर जब अन्य देशों को इसकी जरूरत समझ में आने लगी तो उन्होंने भी इसे फॉलो किया। ये वक्त था प्रेस और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में विकास का जिसके बाद कॉपीराइट की जरूरत ज्यादा बढ़ गई। कई देशों में इस तरह का कानून बनने लगा। इस कानून को और अधिक मजबूती देने के लिए कई देशों के बीच कॉपीराइट को लेकर करार होने लगे।

भारत ने भी एक्‍ट को अपनाया

भारत ने भी कॉपीराइट एक्ट को अपनाया। यहां 1914 में इसे लाया गया। उस समय देश ब्रिटिश राज की जंजीरों में कैद था। भारत में लाए गए कॉपराइट एक्ट को इंग्लैंड में बनाए गए कॉपीराइट ऐक्ट-1911 में थोड़े-बहुत बदलाव करके ही बनाया गया था। हालांकि, इतने सालों बाद भी ये एक्ट इतना असरदार नहीं है। भारत में जमकर कॉपीराइट का उल्लंघन किया जाता है।

ऐसे होगा कॉपीराइट का उल्‍लंघन

आपकी जानकारी के लिए बता दें अगर कोई शख्स कॉपीराइट ऑनर यानी रचनाकार की आज्ञा के बिना या बिना लाइसेंस प्राप्त किए उस रचना को जिसमें फोटो, वीडियो, गाना, सॉफ्टवेयर या कोई भी रचना आती है, का इस्तेमाल करता है तो इसे सीधा कॉपीराइट की शर्तों का उल्लंघन माना जाएगा।

भारत में है यह पेंच

भारत में ही कॉपीराइट में एक पेंच यह भी है कि यदि किसी शख्स का किसी कंपनी के साथ कॉन्ट्रैक्ट है और वह उस कंपनी के लिए काम कर रहा है तो इस दौरान अगर वह कोई रचना करेगा तो शर्तों के मुताबिक उस पर पहला हक कंपनी का होगा। भारत में कॉपीराइट में सजा या जुर्माना यह देखकर तय किया जाता है कि कॉपीराइट ऑनर को इससे कितने का नुकसान हुआ है। आरोप साबित हो जाने पर जुर्माने से लेकर तीन साल तक की जेल का भी प्रावधान है।

इन देशों में है बड़ी सज़ा का प्रावधान

भारत में कॉपीराइट उल्लंघन पर सजा के बहुत कम मामले सामने आते हैं। इसका कारण है कमजोर कानून, हालांकि विदेशों में इसे लेकर कठोर सजाएं हैं। जैसे ब्रिटेन में कॉपीराइट पर 10 लाख रुपए का ज़ुर्माना है। वहीं, इस पर पांच साल तक की सजा का भी प्रावधान है और अगर ऐसे ही मामले में दोबारा पकड़े गए तो समझो गए काम से। आप सोच भी नहीं सकते यहां दूसरी बार कॉपीराइट के मामले में पकड़े जाने पर सीधा 10 साल तक की सजा हो सकती है। उधर, अमेरिका में कॉपीराइट पर 2.5 लाख डालर यानी करीब 17 लाख रुपए के जुर्माने से लेकर पांच साल तक की सजा का प्रावधान है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll