Home Jara Hat Ke Miraculous Rescue Of Two Women Lost At Sea For Five Months Reveals

प्रिंस विलियम और केट मिडलटन बने माता पिता, बेटे का जन्म

हमें उम्मीद है आने वाले समय में कुछ नक्सली सरेंडर करेंगे: महाराष्ट्र DGP

दिल्ली: मानसरोवर पार्क के झुग्गी-बस्ती इलाके में लगी आग

कांग्रेस का लक्ष्य है "हम तो डूबेंगे सनम तुम्हें भी साथ ले डूबेंगे": मीनाक्षी लेखी

कावेरी जल विवाद: विपक्षी पार्टियों का मानव श्रृंखला बनाकर विरोध प्रदर्शन

आखिरकार ढूंढ निकाली गयीं पांच महीने से समुद्र में फंसी लेडीज  

Jara Hat Ke | 31-Oct-2017 | Posted by - Admin
   
 Miraculous Rescue Of Two Women Lost At Sea For Five Months Reveals

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

पांच महीने से छोटे से जहाज पर प्रशांत महासागर में भटक रही दो लेडी सिटीजन्स को अमेरिका नौसेना  ने रेस्क्यू कर लिया है। दोनों ही जापान से करीब 900 मील दूर मिलीं। उनके जहाज पर खतरनाक शार्कों ने भी अटैक किया था।

किस तरह समुद्र में गुजारे 5 महीने....

 

बीती 3 मई को अपने जहाज पर बैठकर जेनिफर एपेल और ताषा फुएवा हवाई द्वीप से 4,163 किलोमीटर दूर ताहिती के लिए रवाना हुई थीं।

 

30 मई को मौसम बेहद खराब होने के बाद जहाज के इंजन ने काम करना बंद कर दिया। तब भी उन्होंने यात्रा जारी रखी। लेकिन इस दौरान वे भटक गईं।

दोनों ही महिलाएं क्षतिग्रस्त जहाज पर जापान के प्रशांत सागर क्षेत्र में पांच महीने तक भटकती रही। अंतत: ये अमेरिकी नौसेना को मिलीं। इन महिलाओं के साथ उनके दो पालतू डॉग्स को भी रेस्क्यू किया गया।

 

संचार नेटवर्क ठप पड़ चुका था

 

जेनिफर और ताषा का जहाज क्षतिग्रस्त होकर असंतुलित हो चुका था। वे किसी को फोन कर मदद मांगतीं, उससे पहले ही संचार नेटवर्क फेल हो गया।

दोनों को उनके भटकने का अहसास तब हुआ जब वे दो महीने बाद भी ताहिती नहीं पहुंचीं। इसके बाद उन्होंने मदद के लिए अन्य तरीकों से संकेत भेेजने शुरू किए। पर संपर्क नहीं हुआ। दोनों ने होनोलुलु में भी नेवी से संपर्क साधने की कोशिश की।

 

ताषा ने बताया, हमें कहीं से मदद नहीं मिल पा रही थी। हम दोनों और हमारे कुत्तों के अलावा हमारी आवाज सुनने वाला दूर-दूर तक कोई नहीं था।

शार्क के हमले का शिकार होते-होते बचे

 

समुद्र में बिताए दिनों के अनुभव बताते हुए जेनिफर कहती हैं कि जहाज में सफर पर चलने से पहले खाने के लिए आमलेट, पास्ता और चावल से बने सामान लेकर चले थे। एक वाटर प्यूरीफायर भी था जिससे साफ पानी के लिए नहीं जूझना पड़ा।

 

उन्होंने कहा कि दोनों कुत्ते हमारे बच्चे की तरह हैं। दोनों एक-एक बार शार्क का शिकार होते-होते बचे। हमने किसी तरह उन्हें बचाया। उन्होंने बताया कि भटकते हुए 98 दिन बीतने के बाद नेवी को हमारे मुश्किल में फंसे होने का संकेत मिल गया। तब नेवी हमें तलाश करती हुई जापान से 1448 किलोमीटर दूर पहुंची और हमें बचाया।

हर पल लगता था जैसे आज हमारा आखिरी दिन है

 

जेनिफर-ताषा ने रेस्क्यू के बाद कहा कि हम भाग्यशाली हैं कि नेवी ने हमें बचा लिया। हम हताश और निराश हो चुके थे। लग रहा था कि एक या दो दिन में हमारी जान चली जाएगी। उन्होंने कहा कि खाने-पीने का सामान पहले ही खत्म हो चुका था। हमारे दोनों कुत्तों का भी ऐसा ही हाल था। आज हम खुशी के इन पलों को बयां नहीं कर पा रहे हैं।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555







TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll

Merchants-Views-on-Yogi-Government-One-Year-Completion

Loading...




Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news