Home Jara Hat Ke Many Graves Of Dead Babies In This Tree Stem In Indonesia

प्रिंस विलियम और केट मिडलटन बने माता पिता, बेटे का जन्म

हमें उम्मीद है आने वाले समय में कुछ नक्सली सरेंडर करेंगे: महाराष्ट्र DGP

दिल्ली: मानसरोवर पार्क के झुग्गी-बस्ती इलाके में लगी आग

कांग्रेस का लक्ष्य है "हम तो डूबेंगे सनम तुम्हें भी साथ ले डूबेंगे": मीनाक्षी लेखी

कावेरी जल विवाद: विपक्षी पार्टियों का मानव श्रृंखला बनाकर विरोध प्रदर्शन

बेहद भयानक है इस पेड़ की कहानी, जानकर चौंक जाएंगे आप

Jara Hat Ke | 11-Apr-2018 | Posted by - Admin
   
 Many Graves Of Dead Babies In This Tree Stem In Indonesia

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

आज हम आपको एक ऐसे पेड़ के बारे में बताने जा रहे हैं जो बेहद डरावना है। सदियों से इस वृक्ष में बच्चों के मरे हुए शव दफनाएं जाते हैं। दरअसल, यह एक परंपरा के अनुसार किया जाता है और यह इंडोनेशिया में प्रचलित है। यहां बच्चों को मरने के बाद पेड़ के तने और टहनियों में गड्ढा कर उनके भीतर दफना दिया जाता है। ऐसी विचित्र परंपरा के बारे शायद आप पहली बार सुन रहे होंगे। बच्चों की लाश को एक कपड़े में लपेटकर ताड़ के पेड़ से बने फाइबर से ढक दिया जाता है।

समय गुजरने के साथ पेड़ों के ये गड्ढे भर जाते हैं लेकिन ऐसा क्यों किया जाता है यह भी जान लें...दरअसल यहां के गांववालों की मान्यता हैं कि बच्चों की आत्मा को हवा अपने साथ बहा ले जाती है। ये परंपरा सिर्फ ऐसे बच्चों के लिए होती है, जिनकी मौत दांत निकलने से पहले हो गई होती है। वयस्क और युवाओं को जमीन के अंदर ही दफनाया जाता है।

 

इस परंपरा को निभाने वाले लोगों का मानना है कि इससे बच्चे मरने के बाद प्रकृति की गोद में समा जाते हैं। जिस पेड़ की टहनियों में बच्चों को दफनाया जाता है वहां का इलाका बेहद डरावना बन चुका है। यही नहीं यहां के वयस्क की अगर मौत होती है तो पहले उनके पूर्वज के शरीर को कब्र से निकालते हैं और उन्हें नए कपड़े पहना कर गांव में घूमाया जाता है, उसके बाद ही उस मृत वयस्क की शरीर को दफनाया जाता है।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555







TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll

Merchants-Views-on-Yogi-Government-One-Year-Completion

Loading...




Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news