Actress katrina Kaif and Mouni Roy Visited Durga Puja Pandal

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

सिंगापुर एयरलाइंस से लेकर एमिरेट्स और कैंटास एयरलाइंस तक सभी ने हाल ही में अपने फर्स्ट और बिजनेस क्लास सुइट दुनिया के सामने पेश किए। ये तो आज के दौर की बात है लेकिन 90 साल पहले चलने वाली फ्लाइंग बोट्स में भी इससे कम लग्जरी नहीं थीं। ये विंटेज फोटोज इस बात का सबूत हैं।

बता दें इनका ओरिजिन 19वीं सदी का है और ये पानी पर सफर करते थे। हालांकि, ये पानी पर टेकऑफ और लैंडिंग की खूबियों से भी लैस थे और जरूरत पड़ने पर उड़ान भी भर सकते थे।

इतना महंगा था सफर...

 

ये फोटोज 1930 के फ्लाइंग बोट्स की हैं, जिनमें नए दौर के प्लेन जैसी सभी लग्जरी देखी जा सकती है। उस दौर के रईस इन फ्लाइंग होटल्स में सफर किया करते थे।

इनमें आरामदेह आर्मचेयर, डाइनिंग रूम, ड्रेसिंग रूम्स और मेल-फीमेल के लिए अलग बाथरूम थे। न्यूलीमैरिड कपल्स के लिए हनीमून सुइट के भी इंतजाम थे।

हालांकि, इसकी ट्रिप में काफी समय लगता था और ये सफर इतना सस्ता भी नहीं था। सैन फ्रांसिस्को से हांगकांग तक का किराया 48 हजार रुपए था, जो आज के दौर के सवा 8 लाख रुपए के बराबर है।

उस दौर के रईस इन फ्लाइंग होटल्स में सफर किया करते थे। सेकंड वर्ल्ड वॉर के धीमा पड़ने के बाद फ्लाइंग बोट्स का प्रोडक्शन और फ्लाइंग टेक्नोलॉजी एडवांस हो गई।

वर्ल्ड वॉर खत्म होने तक बड़े-बड़े रनवे के साथ कई एयरपोर्ट बन गए थे। इसके चलते प्लेन को समुद्र में उतारने की जरूरत नहीं बची थी।

 

आखिरकार 1946 में कैलिफोर्निया क्लिपर लाखों माइल्स की उड़ान के बाद आखिरी फ्लाइंग बोट के तौर पर रिटायर हो गया।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement