Home Gyan Ganga Why The Soil From Outside A Prostitute Home Used For Durga Idol

IndvsNZ: पहले वनडे में भारत ने टॉस जीता, बल्लेबाजी का फैसला

जापान में आम चुनाव के लिए मतदान जारी, PM शिंजो अबे को बहुमत के आसार

आज विदेश मंत्री सुषमा स्वराज बांग्लादेश के 2 दिवसीय दौरे पर होंगी रवाना

J-K: बांदीपुरा के हाजिन में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में एक आतंकी ढेर

दो दिवसीय बांग्लादेश दौरे पर आज रवाना होंगी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज

Trending :   #Hot_Photoshot   #Sports   #Politics   #Hollywood   #Bollywood
   

वेश्‍या के घर की मिट्टी से बनती हैं मां दुर्गा की मूरत, जानिए क्‍यों

Gyan Ganga | 20-Sep-2017

Why the Soil From Outside A Prostitute Home Used For Durga Idol

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

भारत कई त्योहारों का देश है। यहां हर प्रांत के अपने त्योहार और पर्व हैं। इसी कड़ी में एक ऐसा पर्व है, जो न केवल संपूर्ण बंगालवासियों के मन-मस्तिष्क में ऊर्जा और ताजगी का संचार करता है, बल्कि पूरे भारतवर्ष में भी इसे उत्साह के साथ मनाया जाता है। यहां हम बात कर रहे है दुर्गा पूजा की।

दुर्गा पूजा में पूजी जाने वाली दुर्गा मां की मूर्तियों का अलग ही महत्व है। आपको शायद ही ज्ञात हो कि मूर्ति को बनाने में इस्तेमाल की जाने वाली मिट्टी की अपनी खास मान्यता है। इन मूर्तियों को बनाने में खास तरह की मिट्टी का इस्तेमाल किया जाता है जो कि सोनागाछी से आती है। सोनागाछी कोलकाता का रेडलाइट इलाका है, जो सेक्स वर्कर्स के लिए जाना जाता है।

जो कारीगर इन मूर्तियों को बनाते हैं, उनका मानना है कि जब तक मूर्ति को बनाने में सोनागाछी की मिट्टी का उपयोग नहीं किया जाता, मूर्ति पूर्ण नहीं मानी जाती।

इसे लेकर इनकी अपनी कई मान्यताएं है। एक मान्यता है कि जब भी कोई व्यक्ति ऐसी जगह पर जाता है तो वह अपनी सारी अच्छाइयां बाहर ही छोड़ जाता है, यही कारण है कि सेक्स वर्कर के घर के बाहर की मिट्टी को मूर्ति में लगाया जाता है।

ऐसी ही एक और मान्यता है कि नारी, “शक्ति” का एक स्वरूप है, ऐसे में अगर उसकी कहीं गलती है तो उसके लिए समाज जिम्मेदार है। इसलिए यहां की मिट्टी के इस्तेमाल के पीछे उन्हें सम्मान देने का उद्देश्य भी है।

इससे जुड़ी एक और मान्यता के बारे में बताया जाता है कि दुर्गा मां ने अपनी एक भक्त वेश्या को सामाजिक तिरस्कार से बचाने के लिए उसे वरदान दिया था कि उसके यहां की मिट्टी के उपयोग के बिना प्रतिमाएं पूरी नहीं होंगी।

दुर्गा पूजा के वक्त इस मिट्टी का इस्तेमाल बंगाल ही नहीं, बल्कि देशभर में किया जाता है। इस मिट्टी की कीमत 300 से 500 रुपए बोरी तक है। इस मिट्टी से बनी एक मूर्ति की कीमत पांच हजार रुपए से लेकर 15 हजार तक होती है।

नवरात्र के दिनों में पश्चिम बंगाल के मूर्तिकार देश के विभिन्न जगहों पर जाते हैं और इस मिट्टी से बनी प्रतिमाओं की बिक्री करते हैं। वेश्याओं के द्वारे की मिट्टी से बनी दुर्गा मां की मूर्तियों की सबसे अधिक मांग पश्चिम बंगाल और देश के विभिन्न स्थानों  में रहने वाले बंगालियों में है, लेकिन अब दूसरे राज्यों के लोगों में भी इसकी मांग बढ़ने लगी है।

 

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555


संबंधित खबरें



HTML Comment Box is loading comments...

Content is loading...





What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll


Photo Gallery
अब कब आओगे मंत्री जी । फोटो- अभय वर्मा

Flicker News



Most read news

 


Most read news


Most read news


sex education news



rising news video

खबर आपके शहर की