Rajashree Production Declared New Project After Three Years of Prem Ratan Dhan Payo

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

भारत की सबसे लम्बी नदी गंगा है, लेकिन अगर हम विश्व की टॉप 10 सबसे बड़ी नदियों के बारे में बात करें तो इसमें गंगा नदी शामिल नहीं होती। दुनिया की सबसे लंबी नदी नॉर्थ-ईस्ट अफ्रीका में बहने वाली नील नदी है। आज हम आपको Nile River से जुड़े कुछ अहम फैक्ट्स के बारे में बताएंगे।

  • Nile River की लंबाई 6650 किलोमीटर यानी कि 4132 मील है। नील नदी अफ्रीका की सबसे बड़ी झील विक्टोरिया से निकलकर Great Sahara Desert के Eastern Part को पार करती हुई नॉर्थ में भूमध्यसागर में गिरती है।
  • नील नदी अफ्रीका के लगभग 11 देशों से होकर गुजरती है इसमें मिस्र, सूडान, इथओपिआ प्रमुख देश है। वाइट नील और ब्लू नील, नील की सहायक नदियां है।
  • नील नदी को मिस्र के लिए वरदान कहा जाता है। मिस्र उत्तर-पूर्वी अफ्रीका का एक देश है।जिसका लगभग एक तिहाई भाग मरुस्थल है। मिस्र की सभ्यता विश्व की प्राचीनतम सभ्यताओं में से एक है। मिस्र की भाषा में नील नदी को इत्तेरु कहते हैं। इसका मतलब होता है महान।

  • मिस्र में पूरे साल भर में सिर्फ एक इंच बरसात ही होती है, लेकिन फिर भी हर गर्मी के मौसम में नील नदी का पानी बढ़ जाता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि दक्षिण की ओर नील नदी के सुदूर स्रोत इथिओपिया में उस समय बारिश हो रही होती। इससे नील का पानी बढ़ जाता है।
  • नील नदी मिस्र के लोगों को घर और इमारत बनवाने के लिए सामान उपलब्ध करवाती है। नील नदी की गीली मिट्टी से वहां के लोग अपना घर बनाते हैं। इसके अलावा नदी के किनारे की पहड़ियों से वो चूना पत्थर और बलुआ पत्थर भी प्राप्त करते हैं।

  • अफ्रीका के अलावा कई देश इस नदी के किनारे बसे हुए हैं। जिस वजह से इस नदी का इस्तेमाल परिवहन के लिए भी किया जाता है।
  • बाढ़ से बचने के लिए नील नदी पर अस्वान डैम बनाया गया है। इस डैम का निर्माण साल 1960 में शुरू हुआ और साल 1970 में बनकर यह तैयार हुआ।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement