Home Gyan Ganga Rules Of Fast Of Ekadashi

जम्मू-कश्मीर के डोडा में सीजन की पहली बर्फबारी

आरक्षण पर सवाल पूछे जाने पर राहुल गांधी ने नहीं दिया जवाब: रविशंकर प्रसाद

गुजरात की जनता नकारात्मकता का जवाब देगी: पीएम मोदी

राज्यसभा से सदस्यता रद्द होने के मुद्दे पर हाईकोर्ट पहुंचे शरद यादव

उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाकों में आज और कल ताजी बर्फबारी होगी: मौसम विभाग

तो इसलिए है, एकादशी व्रत के नियम

Gyan Ganga | 07-Jun-2017 | Posted by - Admin

   
rules of fast of ekadashi

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।  


सनातन धर्म यानी हिन्दू धर्म में बहुत से व्रत है और इनको निभाने के लिए अनगिनत नियम भी हैं। इन्ही में से एक व्रत एकादशी है और इसको लेकर ऐसी मान्यता है क‌ि इस द‌िन चावल और चावल से बनी चीजें नहीं खानी चाह‌िए। इसके पीछे धार्म‌िक कारण के साथ ही साथ वैज्ञान‌िक कारण भी बताया जाता है।


आइये जानें यह मान्यता क्यों है?


धार्मिक कारण


धार्म‌िक दृष्ट‌ि से एकादशी के दिन चावल खाना अखाद्य पदार्थ अर्थात नहीं खाने योग्य पदार्थ खाने का फल प्रदान करता है।


पौराणिक कथा के अनुसार माता शक्ति के क्रोध से बचने के लिए महर्षि मेधा ने शरीर का त्याग कर दिया और उनका अंश पृथ्वी में समा गया। चावल और जौ के रूप में महर्षि मेधा उत्पन्न हुए इसलिए चावल और जौ को जीव माना जाता है।


जिस दिन महर्षि मेधा का अंश पृथ्वी में समाया, उस दिन एकादशी तिथि थी। इसलिए एकादशी के दिन चावल खाना वर्जित माना गया। मान्यता है कि एकादशी के दिन चावल खाना महर्षि मेधा के मांस और रक्त का सेवन करने जैसा है।


वैज्ञानिक कारण


वैज्ञानिक तथ्य के अनुसार चावल में जल तत्व की मात्रा अधिक होती है। जल पर चन्द्रमा का प्रभाव अधिक पड़ता है। चावल खाने से शरीर में जल की मात्रा बढ़ती है इससे मन विचलित और चंचल होता है। मन के चंचल होने से व्रत के नियमों का पालन करने में बाधा आती है। एकादशी व्रत में मन का निग्रह और सात्विक भाव का पालन अति आवश्यक होता है इसलिए एकादशी के दिन चावल से बनी चीजें खाना वर्जित कहा गया है।


यह भी पढ़ें

इतिहास रचेगा भारत, लॉन्‍च हुआ GSLV मार्क-3

आतंकवाद बढ़ा रहा कतर, सारे संबंध खत्‍म

बिहारी खुद ही अपनी नाक कटवा रहे हैं

कुछ इस तरह सोशल मीडिया पर उड़ी पाक की खिल्ली 

...तो इसलिए हार गया पाकिस्‍तान 

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news




sex education news