Home Gyan Ganga Reason Why Kalawa Is Fastened On Wrist

7 लड़कियों और 11 लड़कों समेत 18 बच्चों को मिलेगा नेशनल ब्रेवरी अवॉर्ड

पद्मावत के रिलीज वाले दिन जनता कर्फ्यू लगाया जाएगा: कलवी

लखनऊ: ब्राइटलैंड स्कूल के प्रिसिंपल को पुलिस ने किया गिरफ्तार

फिल्म पद्मावत पर बोले अनिल विज- SC ने हमारा पक्ष सुने बिना फैसला दिया

उत्तर प्रदेश में गोरखपुर महोत्सव आज से शुरू

इसलिए बांधा जाता है हथेली में कलावा

Gyan Ganga | 08-Aug-2017 | Posted by - Admin

   
Reason Why Kalawa is Fastened on Wrist

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क

ये तो आप सभी जानते ही होंगे कि किसी भी शुभ कार्य से पहले या कोई भी पूजा करने से पहले तिलक किया जाता है और हाथों पर रक्षासूत्र भी बंधा जाता है और फिर उसके बाद पूजा शुरू की जाती है। धार्मिक अनुष्ठान हो या पूजा-पाठ या कोई मांगलिक कार्य हो या देवों की आराधना, सभी शुभ कार्यों में हाथ की कलाई पर लाल धागा अर्थात मौली (कलावा) बांधने की परंपरा है लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आखिर मौली यानि कलावा क्यों बंधा जाता है?  इसे रक्षा कवच के रूप में भी शरीर पर बांधा जाता है। कलावा यानी रक्षा सूत्र बांधने के वैज्ञानिक और धार्मिक दोनों महत्व है।  

आज हम आपको बताएंगे कि कलावा क्यों बांधा जाता है कलाई पर:-

वैदिक परम्परा का हिस्सा 

ऐसा माना जाता है कि इंद्र जब वृत्रासुर से युद्ध करने जा रहे थे तब इंद्राणी शची ने इंद्र की दाहिनी भुजा पर रक्षा-कवच के रूप में कलावा बांधा था और इंद्र इस युद्ध में विजयी हुए थे। उसके बाद से ये रक्षासूत्र बांधा जाता है। वहीं इससे  अनुष्ठान की बाधांए दूर हो जाती है। शास्त्रों का ऐसा मानना है कि कलावा बांधने से त्रिदेव, ब्रह्मा, विष्णु और महेश तथा तीनों देवियों लक्ष्मी, पार्वती व सरस्वती की कृपा प्राप्त होती है।

रक्षा सूत्र का महत्व 

ऐसा माना जाता है कि असुरों के दानवीर राजा बलि की अमरता के लिए भगवान वामन ने उनकी कलाई पर भी रक्षासूत्र बांधा था और इसे रक्षाबंधन का प्रतीक भी माना जाता है, देवी लक्ष्मी ने राजा बलि के हाथों में अपने पति की रक्षा के लिए ये बंधन बांधा था। इसलिए रक्षा सूत्र को हमेशा रक्षा का प्रतीक माना जाता है।

मौली का अर्थ

“मौली” का शाब्दिक अर्थ है “सबसे ऊपर” जी हां अर्थात मौली का तात्पर्य सिर से भी होता है। मौली को कलाई में बांधने के कारण इसे कलावा भी कहा जाता है जिसका वैदिक नाम उप मणिबंध भी है।

किस हाथ में बांधी जाती है मौली

पुरुषों और अविवाहित कन्याओं के दाएं हाथ में और विवाहित महिलाओं के बाएं हाथ में रक्षासूत्र बांधा जाता है। जिस हाथ में कलावा या मौली बांधा जाता है उसकी मुट्ठी बंधी होनी चाहिए तथा दूसरा हाथ सिर पर होना चाहिए। पूजा करते समय नए कपड़ो को धारण करना चाहिए आपके मन में धर्म के प्रति आस्था होनी चाहिए, मंगलवार या शनिवार को पुरानी मौली उतारकर नई मोली धारण करें, संकटों के समय भी रक्षासूत्र हमारी रक्षा करते हैं।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555







Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news