Film on Pulwama Attack in Bollywood

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

दिसंबर का महीना आधा बीत जाने के साथ ही नए साल के जश्न की तैयारियां शुरू हो जाती हैं। हर कोई अपनी सुविधाओं के अनुसार नए साल का जश्न मनाने की तैयारियां शुरू कर देता है। लेकिन क्या कभी आपके मन में ये सवाल उठा है आखिर 12 महीनों में आखिर जनवरी महीने में ही क्यों “नया साल” मनाया जाता है और क्यों है ये साल का पहला महीना। आइए जानते हैं...

दरअसल 1 जनवरी से शुरू होने वाले कैलेंडर को ग्रिगोरियन कैलेंडर के नाम से जाना जाता है, जिसकी शुरूआत 15 अक्टूबर 1582 में हुई। इस कैलेंडर की शुरुआत ईसाइयों ने क्रिसमस की वजह से की थी। कहा जाता है कि ग्रिगोरियन कैलेंडर से पहले 10 महीनों वाला रूस का जूलियन कैलेंडर प्रचलन में था और इस कैलेंडर में क्रिसमस की तारीख एक दिन में नहीं आती थी। उसके बाद अमेरिका के नेपल्स के फिजीशियन एलॉयसिस लिलिअस ने एक नया कैलेंडर प्रस्तावित किया। उसके बाद रूस के ही कैलेंडर को राजकीय आदेश से औपचारिक तौर पर अपना लिया गया। इसे आधिकारिक तौर पर लागू कर दिया गया और इस कैलेंडर में पहला दिन 1 जनवरी को होता है। इसलिए इसी कैलेंडर के हिसाब से नया साल जनवरी में होता है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement