Box Office Collection of Dhadak and Student of The Year

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

हम सभी जानते हैं कि शून्य का अविष्कार भारत में हुआ। लेकिन शून्य के आविष्कार का सबसे पहला प्रमाण हमारे अब तक के ज्ञान से भी पुराना है। ये बात पता चली है एक रिपोर्ट में जिसमें बताया जा रहा है कि ज़ीरो की खोज चौथी शताब्दी में ही हो गई थी। ये जानकारी एक प्राचीन भारतीय पांडुलिपि में मिले रिकॉर्ड से साबित होती है। 1902 से ब्रिटेन के ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में रखी गई बखशाली पांडुलिपि तीसरी या चौथी शताब्दी की बताई जा रही है।

इतिहासकारों के पास इस पांडुलिपि के बारे में मिली जानकारी के अनुसार ये कई सौ साल पुरानी बताई जा रही है। ये पांडुलिपि पाकिस्तान के पेशावर क्षेत्र में 1881 में मिली जिसे बाद में ब्रिटेन की ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में बडलियन लाइब्रेरी ने संग्रहित किया था। बडलियन लाइब्रेरी के कार्यकर्ता के मुताबिक ये नई जानकारी गणित के इतिहास के लिए काफी महत्वपूर्ण है।

क्या है बखशाली पांडुलिपि 

प्राचीन भारत में गणित में इस्तेमाल होने वाला बिंदु समय के साथ शून्य के चिह्न के रूप में विकसित हुआ और इसे पूरी बखशाली पांडुलिपि में देखा जा सकता है।
बडलियन लाइब्रेरी के मुताबिक बिंदु से प्रारंभिक तौर पर संख्या प्रणाली में क्रम के गुरुत्व की समझ बनती थी, लेकिन बीतते समय के साथ मध्य में छेद वाला आकार विकसित हुआ।

पहले के शोध में बखशाली पांडुलिपि को 8वीं और 12वीं शताब्दी के बीच का माना जा रहा था, लेकिन कार्बन डेटिंग के मुताबिक ये कई शताब्दियों पुरानी है। बडलियन लाइब्रेरी के मुताबिक इससे पहले पांडुलिपि किस समय की है ये बता पाना शोधकर्ताओं के लिए काफ़ी मुश्किल था क्योंकि ये 70 भोजपत्रों से बनी हुई है और इसमें तीन अलग-अलग काल की सामग्रियों के प्रमाण मिले हैं।

अंग्रेजी अख़बार “दि गार्डियन” के मुताबिक संस्कृत के एक स्वरूप में लिखी गई इस पांडुलिपि के अनुवाद से पता चलता है कि ये सिल्क रूट के व्यापारियों के लिए प्रशिक्षण पुस्तिका थी और इसमें गणित के व्यावहारिक अभ्यास हैं जो बीजगणित के समान प्रतीत होता है। ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में गणित के प्रोफेसर मार्कस ड्यू सॉतॉय ने द गार्डियन अख़बार से कहा है, “इसमें ये भी देखने को मिलता है कि अगर कोई सामान खरीदें और बेचें तो आपके पास क्या बच जाता है?”

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll