Disha Patani Speaks on Salman Khan for Bharat

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

करोड़ों तरह के जीव जंतु, पशु-पक्षी धरती पर हैं और अकसर उनसे जुड़ी तमाम तरह की रहस्यमयी बातें भी सुनने को मिलती हैं। कइयों को लेकर मिथक भी हैं जिनकी सच्चाई कुछ और ही है।

कुत्ता और रंग

कुत्तों के बारे में भ्रम रहता है कि उन्हें सिर्फ काला और सफेद रंग दिखता है। ऐसा नहीं है। कुत्तों को अन्य रंग भी दिखाई देते हैं।

सांड और लाल रंग

सांड के बारे में लोग सोचते हैं कि सांड लाल रंग देखकर भड़क जाते हैं, जबकि सांड किसी व्यक्ति को देखकर उत्तेजित नहीं होते हैं बल्कि वे किसी गतिविधि को देखकर रिएक्ट करते हैं।

दरियाई घोड़े की सींग

दरियाई घोड़े की नाक पर बनी आकृति को उसकी सींग समझा जाता है, जबकि दरियाई घोड़े की सींगनुमा आकृति एक कठोर मांस का टुकड़ा मात्र होता है।

मछली

मछलियों के बारे में भ्रम है कि वे शोर नहीं करती हैं जबकि मछलियां किसी बिजी फार्म की तरह ही शोर करती हैं।

चूहे

चूहे के बारे में लोगों को लगता है कि उन्हें चीज (Cheese) काफी पसंद होता है लेकिन वास्तविकता यह है कि चीज (Cheese) चूहों का पसंदीदा फूड नहीं होता है।

छछूंदर की नजर

छछूंदर की नजर के बारे में भ्रम रहता है कि उन्हें दिखाई नहीं देता है जबकि उन्हें दिखाई देता है लेकिन उनकी नजर बेहद कमजोर होती है।

ब्लू वेल

ब्लू वेल मछली के बारे में भ्रम फैला हुआ है कि वे पूरी कार को भी निगल सकते हैं जबकि ब्लू वेल किसी ग्रेपफ्रूट के बराबर की वस्तु ही निगल सकती हैं।

गिरगिट

गिरगिट के बारे में भ्रम या मिथक है कि गिरगिट किसी माहौल के रंग के अनुसार अपना रंग बदलता है जिससे वह उसमें घुल-मिल जाये जबकि वास्तव में गिरगिट परिस्थितियों के अनुसार अपना मूड रिफ्लेक्ट करने के अनुसार अपना रंग बदलता है।

शुतुरमुर्ग

शुतुरमुर्ग के बारे में भ्रम है कि भयभीत होने पर या किसी खतरे की स्थिति का भान होने पर शुतुरमुर्ग अपना सिर छुपा लेते हैं जबकि शुतुरमुर्ग किसी खतरे की स्थिति में अपनी जान बचाकर भागते हैं।

 

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement