Crowd Rucuks At Sapna Chaudhary Program in Begusaray of Bihar

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

ये तो आप जानते ही हैं कि ऊंट को रेगिस्तान का जहाज कहा जाता है। इस रेगिस्तानी इलाकों में बहुत से लोग ऊंट को ही यातायात का साधन मानते हैं और इससे लंबी से लंबी दूरी तय करते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है कि ऊंट केवल यातायात के साधन के तौर पर ही काम आता है। आपको बता दें कि ऊंटनी का दूध कई तरह से फायदेमंद होता है और इसे सफेद सोना कहा जाता है।

ऊंटनी के दूध के फायदों को देखते हुए ही इसे सफेद सोना कहा जाता है। सिर्फ हमारे देश भारत में ही नहीं बल्कि यूनाइटेड अरब अमीरात में भी ऊंटनी के दूध की काफी मांग है और इसे पीने वाले कम नहीं है। ऊंटनी का दूध दिन में दो बार निकाला जाता है और एक ऊंटनी एक दिन में करीब सात लीटर दूध देती है।

जानकारी के अनुसार ऊंटनी के दूध से साल 2008 में चॉकलेट बनाने का काम शुरू किया गया था। दुबई में ऊंटनी के दूध से चॉकलेट बनाने वाली कंपनी का नाम अल नासमा है।

इन फायदों की वजह से कहा जाता है ऊंटनी के दूध को सफेद सोना

  • विभिन्न शोधों में ये बात सामने आई है कि अगर आप किसी कमजोर दिमाग वाले बच्चों को ऊंटनी का दूध पिलाते हैं तो उसका दिमाग तेज होता है।
  • रैका जनजाति के लोगों पर किए गए एक शोध में ये बात सामने आई है कि इस जनजाति के किसी भी व्यक्ति को डायबिटीज नहीं है और इसका कारण ये है कि वो ऊंटनी का दूध पीते हैं।
  • ऊंटनी के एक लीटर दूध में 52 प्रतिशत इंसुलिन होता है।
  • आपको बता दें कि ऊंटनी के दूध के फायदों को देखते हुए अब इसका इस्तेमाल दवाइयां बनाने में किया जा रहा है।
  • भारत में राजस्थान, अहमदाबाद, सूरत, पुणे और मुंबई में इस दूध की डिमांड ज्यादा है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement