Watch Making of Dilbar Song From Satyameva Jayate

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

सेना देश की आन-बान और शान होती है। ऐसा ही भारत में भी है। भारत में जल, थल और वायु सेनाएं शामिल हैं। आपको बता दें कि तीनों सेनाओं के सेल्यूट करने का तरीका अलग-अलग होता है। आज हम आपको बताएंगे कि हमारी आर्मी, नेवी और एयर फॉर्स के सैल्यूट करने में क्या अंतर होता है और इसका क्या मतलब होता है।

 

भारतीय थल सेना

भारतीय सेना के सभी जवान आपको कई मौकों पर सैल्यूट करते हुए दिख जाएंगे, इंडियन आर्मी के जवान अपने खुले पंजे से सैल्यूट करते हैं, उनकी सारी अंगुलियां सामने की ओर खुली रहती है। इसके अलावा बीच की उंगली और अंगूठा आपके सिर और आईब्रो तक होता है।

भारतीय जल सेना

इनका सैल्यूट करने का तरीका इंडियन आर्मी से काफी अलग होता है। इंडियन नेवी के जवान भी खुली हथेली से सैल्यूट करते हैं लेकिन उनकी हथेली नीचे की तरफ होती है। इस तरीके से सैल्यूट करने के पीछे तर्क दिया जाता है कि पुराने जमाने में नेवी के जवान जहाज में काम भी करते थे जिसकी वजह से उनके हाथ गंदे हो जाते थे। इसे छिपाने के लिए वो हथेली को नीचे की तरफ करके सैल्यूट करते थे और तब से ही इंडियन नेवी ऐसे ही सैल्यूट करती नजर आ रही है।

 

भारतीय वायु सेना

पहले वायु सेना के जवान आर्मी की तरह ही सैल्यूट करते थे लेकिन साल 2006 में मार्च के महीने में इंडियन एयरफॉर्स ने अपने जवानों के लिए सैल्यूट के नए फॉर्म तय किए थे। नए फॉर्म के मुताबिक, वह वह हथेली और जमीन में 45 डिग्री का कोण बनाते हुए सेल्यूट करते हैं। इन्डियन एयरफॉर्स इस तरह से आसमान की ओर अपने बढ़ते कदम को दर्शाती है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll