Priyanka Chopra Shares Her Experience of Health Issues

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्‍क।

आपको पॉक्‍सो एक्‍ट का नाम तो बहुत सुना होगा। क्‍या कभी आपने इसके बारे में जानने की कोशिश की है। बहुत लोगों को POCSO का फुल फॉर्म भी पता नहीं होगा। आइए आपको बताते हैं कि इसके बारे में सबकुछ-

इस कानून के तहत 18 साल से काम उम्र के लड़के लड़कियों का अगर कोई सेक्सुअल असॉल्ट करता किसी नाबालिग के गुप्त अंग को छूता है या अश्लील मानसिकता से अपने प्राइवेट अंग को बच्चे से स्‍पर्श कराता है तो उसे पॉक्‍सो एक्‍ट के अंतर्गत सजा हो सकती है।

अब मौजूदा सरकार ने इसमें सुधार करके पॉक्‍सो कानून को और ज्यादा मजबूत कर दिया है। बच्चों की सुरक्षा के लिए इस में कई बदलाव किये हैं अब अगर कोई 12 साल से कम उम्र के लड़के या लड़की के साथ दुष्कर्म करता है तो उसको फांसी की सजा हो सकती है।

भारत में छोटे-छोटे बच्चों को यौन अपराधियों से बचाने के लिए भारत सरकार ने 2012 में एक कानून पास किया था।

POCSO का Full Form 

P = Protection

O = of

C = Children

S = Sexual

O = Offences

  • pocso act  के अंतर्गत अलग अलग प्रावधान हैं अपराधी को सजा देने के लिए।
  • pocso act section 3– के तहत अगर व्यक्ति छोटे बच्चों संग पेनेट्रेटिव सेक्सुअल असॉल्ट करे तो उसे कड़ी सजा का प्रावधान है।
  • section 4 के अंतर्गत– बच्चे के बलात्कार और छेड़खानी के लिए उम्र कैद या 10 साल की सजा हो सकती है।
  • section 6 के अंतर्गत बच्चे के साथ rape के बाद गंभीर चोट पहुंचाई गई हो तो उम्र कैद और साथ में जुर्माना लगाया जाता है।
  • section 7 के अंतर्गत वो मामले आते हैं जिसमे बच्चों के गुप्त अंग को टच किया गया हो। सेक्सुअल हरासमेंट किया गया हो। इसमें 5 से 7 साल की सजा होती है।
  • pocso act सेक्शन 11 के अंतर्गत कोई बच्चे के सामने अश्लील हरकत करता है, या उसको भी ऐसा करने को मजबूर करे, या कोई शख्स छोटे बच्चों को अभद्र वीडियो या पोर्न सामग्री दिखाता है तो वह इस सेक्‍शन के तहत आता है। ऐसे व्‍यक्ति को तीन साल की सजा होती है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement