Neha Kakkar Reveald Her Emotional Connection with Indian Idol

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई देश की सशक्त होती महिलाओं के लिए एक प्रेरणा, एक आदर्श मानी जाती हैं। वीरांगना झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के बारे में जानिये कुछ बातें

  • रानी लक्ष्मीबाई का पूरा नाम रानी लक्ष्मीबाई गंगाधरराव था।
  • रानी लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवंबर साल 1835 को वाराणसी में हुआ था।
  • रानी लक्ष्मीबाई के बचपन का नाम मणिकर्णिका था और लोग उन्हें प्यार से मनु बुलाते थे।
  • रानी लक्ष्मीबाई की उम्र मात्र 4 साल की ही थी जब उनकी मां की मृत्यु हो गई जिसके बाद पिता ने ही उनका पालन-पोषण किया।
  • रानी लक्ष्मीबाई के पिता ने उन्हें मल्लविद्या, घुड़सवारी और शस्त्रविद्याएं सिखवाईं।
  • साल 1842 में मात्र 8 वर्ष की आयु में ही इनकी विवाह झांसी के मराठा शासक महाराज गंगाधर राव नेवालकर के साथ कर दिया गया जिसके बाद ही लक्ष्मीबाई को झांसी की रानी लक्ष्मीबाई कहा जाने लगा।

  • साल 1851 में रानी लक्ष्मीबाई ने एक पुत्र को जन्म दिया जिसका नाम दामोदर राव रखा गया लेकिन मात्र 4 माह की आयु में ही उसकी मृत्यु हो गई।
  • महाराजा गंगाधर राव ने अपने भाई के पुत्र को गोद लिया।
  • साल 1853 में बीमारी के कारण झांसी के राजा गंगाधर राव की मृत्यु हो गई जिसके बाद दत्तक पुत्र का नाम दामोदर राव रखा गया।
  • दत्तक पुत्र लेने के बाद पति के कर्ज के कारण अंग्रेज अधिकारियों ने उनके राज्य के खजाने पर कब्जा कर लिया ।
  • साल 1854 को झांसी का किला छोड़ते समय उनके पिता का कर्ज के पैसे लेने का आदेश किया गया।
  • 17 जून साल 1858 को ग्वालियर के कोटा की सराय में ब्रिटिश सेना के साथ ल़ड़ते हुए रानी लक्ष्मीबाई वीरगति को प्राप्त हुईं।
  • अपने राज्य की रक्षा के लिए लड़ते हुए वीरगति प्राप्त करने वाली झांसी की रानी लक्ष्मीबाई को एक आदर्श वीरांगना के रूप में जाना जाता है।

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के लिए ये लाइनें सबसे ज्यादा प्रसिद्ध मानी जाती हैं-

सिंहासन हिल उठे, राजवंशो ने भृकुटी तानी थी।

बूढ़े भारत में भी आई, फिर से नयी जवानी थी।

गुमी हुई आज़ादी की कीमत, सबने पहचानी थी।

दूर फिरंगी को करने की, सबने मन में ठानी थी।

चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी।

बुंदेले हरबोलों के मुह, हमने सुनी कहानी थी।

खूब लड़ी मर्दानी वह तो, झांसी वाली रानी थी!!

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll