Priyanka Chopra Shares Her Experience of Health Issues

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्क।

चाणक्य के विचार जीवन के सभी क्षेत्रों में मनुष्य के काम आते हैं। चाणक्य की नीतियों में जो विचार के खजाने हैं, उसमें महिलाओं से संबंधित भी गूढ़ बातें हैं। आचार्य चाणक्य की नीतियां जो महिलाओं के संबंध में हैं, उसमें बहुत सारी गुणों के बारे में बताया गया है।

चाणक्य के एक श्लोक के अनुसार पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं अधिक गुणी होती हैं। पुरुष शायद इस बात पर यकीन नहीं कर पाएं लेकिन चाणक्य द्वारा बताए गए एक श्लोक के अनुसार विशेष पांच गुण होते हैं। श्लोक- “स्त्रीणां दि्वगुण आहारो बुदि्धस्तासां चतुर्गुणा। साहसं षड्गुणं चैव कामोष्टगुण उच्यते।।”

आगे जानिए महिलाओं के इन पांच विशेष गुणों को

दोगुनी भूख

आचार्य चाणक्य के इस श्लोक के अनुसार महिलाओं को पुरुषों की तुलना में भूख दोगुना अधिक लगती है। इसके अलावा वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी यह सच है कि महिलाओं को अपने शरीर की जरूरतों को पूरा करने के लिए अधिक आहार लेना चाहिए।

अधिक चालाकी

चाणक्य के अनुसार महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक चालाक होती हैं। इस श्लोक के अनुसार चालाकी के मामले में महिलाएं पुरुषों से चार गुना अधिक तेज होती हैं। महिलाएं यदि कोई भी कार्य कर सकने में सक्षम हैं तो उसे पुरुष की अपेक्षा अधिक चालाकी से कर सकती हैं।

लज्‍जा प्रिय

महिलाएं पुरुष की तुलना में अधिक लज्जा प्रिय होती हैं। चाणक्य के अनुसार कोई भी युग क्यों न हो, लेकिन महिलाओं का यह लाज-शर्म कभी खत्म नहीं हो सकता है।

साहसी

चाणक्य के अनुसार महिलाएं पुरुषों से अधिक साहसी होती हैं। पुरुषों को यह बात थोड़ा अटपटी लग सकती है। लेकिन यह बात चाणक्य की नजरों में सच है। आचार्य चाणक्य की दूरदर्शिता यह कहती है कि महिलाओं में साहस पुरुषों से छह गुना अधिक होता है।

अधिक काम भावना

यह बात हैरान करने वाली हो सकती है, लेकिन आचार्य चाणक्य के अनुसार महिलाओं में पुरुषों की अपेक्षा आठ गुना अधिक काम भावना होती है। चाणक्य के अनुसार भले ही महिलाएं शारीरिक संबंध बनाने में पहल न करती हों लेकिन पहल पुरुषों की तरफ से हो तो इसके पूर्ण आनंद की भावना महिलाएं अधिक रखती हैं। 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement