• दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको ने इस्तीफे की पेशकश की
  • कांग्रेस महासचिव गुरुदास कामत ने पार्टी के सभी पदों से दिया इस्तीफा
  • कुलभूषण जाधव की मां ने बेटे की सजा के खिलाफ पाकिस्तान में दायर की याचिका
  • दिल्ली एमसीडी में बीजेपी की जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी बधाई
  • दिल्ली बीजेपी कार्यालय के बाहर लगी होर्डिंग- सुकमा शहीदों को समर्पित है यह जीत
  • दिल्ली में केजरीवाल के घर पहुंचे "आप" के बड़े नेता, हो रही है मीटिंग
  • एमसीडी चुनाव के रूझान के बाद मनोज तिवारी ने केजरीवाल का इस्तीफा मांगा
  • सेंसेक्स रिकॉर्ड 30,030 प्वाइंट के साथ खुला, निफ्टी 9,328.75
  • सुकमा हमले पर गृह मंत्रालय ने CRPF से मांगी रिपोर्ट
  • दिल्ली एमसीडी चुनाव की काउंटिंग शुरू
  • शशिकला के गिरफ्तार भतीजे दिनाकरन की आज कोर्ट में होगी पेशी
  • दिल्ली एमसीडी चुनाव की काउंटिंग कुछ देर में शुरू होगी
  • पूर्व मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बच्चा पाठक का निधन

Share On

  

'इस बार किसकी सरकार ?'
प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए रणभेरी बज चुकी है। राजनैतिक दल भी अपनी-अपनी बिसात बिछाने लगे हैं। सबके केंद्र में प्रदेश की जनता है। ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि प्रदेश में अगली सरकार किस पार्टी की होगी। अगली सरकार को लेकर लोगों की राय भी अलग अलग है। इसकी थाह लेने के लिए दि राइजिंग न्यूज राजधानी के अलग अलग क्षेत्रों लोगों से बात की। उनसे उनके मन की बात जाननी चाही। इस सर्वे में एक बात स्पष्ट सामने आई कि नोटबंदी से तमाम दिक्कतों के बावजूद लोग भाजपा को पसंद कर रहे हैं। प्रदेश सत्तारुढ़ समाजवादी सरकार व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के विकास कार्यों के लोग कायल दिखे लेकिन समाजवादी परिवार की कलह के चलते सपा रास्ता आसान नहीं नजर आता है। लोगों ने जो अपनी राय दी वह कुछ इस तरह रही

राजन
नौकरी

अभी तक अखिलेश यादव का कार्य बहुत ही अच्छा‍ रहा है पर आपसी मदभेद दूर नहीं हुए तो सरकार नहीं बन सककती है।

जसवंत
नौकरी

जिस प्रकार भारत में मोदी के आने से बदलाव हुआ है उसी प्रकार उप्र में भी बदलाव की आवश्यककता है।

जितेन्द्र
किसान

मोदी सरकार के आने से युवाओं को रोजगार व किसानों को ज्याेदा फायदा होगा।

कमल वर्मा
नौकरी

सपा ने कार्य तो प्रदेश में अच्छेक किए है पर अब अगर परिवार के झगड़े को ही नहीं ठीक कर पा रही तो प्रदेश को नहीं चला सकती है।

सत्यम
छात्र

बीजेपी ने जो ब्लै्क मनी को रोका है वो कार्य कोई भी सरकार नहीं कर सकती है। इसलिए बीजेपी की ही सरकार बननी चाहिए।

आमिर रिजवी
नौकरी

बीजेपी ने केन्द्रा में आने के पहले कहा था कि 56 इंच का सीना वो कर दिखाया है उसी प्रकार प्रदेश में भी बीजेपी की सरकार होनी चाहिए।

गयूर जैदी
नौकरी

सरकार बीजेपी की ही आ जाए मगर अखिलेश बीजेपी में आ जाए तो प्रदेश का मुख्ययमंत्री अखिलेश ही हो।

आशुतोष त्रिवेदी
नौकरी

लोगों को उम्मी द मोदी से है न की बीजेपी से है क्यों ‍कि मोदी ही हैं जो प्रदेश में परिवर्तन ला सकते हैं।

दिपक गुप्ताव
नौकरी

बीजेपी सरकार ही एक ऐसी सरकार है कि जो किसानों को डिजटल इंडिया से जोड़ा है जिससे किसानों को ज्याीदा फायदा मिला है।

शत्रुधन उपाध्याय
नौकरी

सरकार बीजेपी की ही हो पर मोदी का चेहरा आगे होगा तभी बीजेपी की सरकार होगी।

अनाविल पाठक
व्‍यापारी

नोटबन्दीे से जनता कुछ परेशान जरूर हुई है मगर कुछ भविष्य को सुधारने में परेशानी तो होती है मगर भविष्यय सुधर जाएगा इसलिए सरकार बीजेपी की ही हो।

जितेन्द्र वालिया
नौकरी

मोदी के होने से ही बीजेपी की सरकार बन सकती है जो मोदी ने कर के दिखाया है वो आजतक केन्द्र में कोई भी नहीं कर पाया है।

दिनेश श्रीवास्तमव
व्यापारी

सपा में चल रहे विवाद सें सपा को भारी नुकसान है पर मुख्यकमंत्री की छवि अच्छी होने के बाद भी यूपी में आने वाली सरकार बसपा की होगी।

आशीष शुक्ला
व्‍यापारी

गुंडागर्दी , महिला हिंसा और उत्पीीड़न का ग्राफ बहुत बढ़ गया है। जिसे रोकने के लिए अब भाजपा कि सरकार बनाएंगे वही प्रदेश को इन सब से मुक्ति दिलाएगी।

सुरेश चन्द्र निगम
व्यापारी

अगर सपा की कलह का अंत हो गया और परिवार एक हुआ तो सरकार सपा की ही बनेगी। अखिलेश में दम है।

मेंहदी हसन
व्यापारी

प्रदेश में बंद पड़ी तमाम फैक्ट्रि यों को खोलने का कोई प्रयास नहीं किया गया। फिर विकास कैसे हुआ। ऐसा विकास सिर्फ कांग्रेस कर सकती है।

मो.इखलाक
व्यापारी

पांच सालों में विकास कार्य तेजी से हुए हैं। इसलिए वोट भी अखिलेश को देंगे और सपा की सरकार बनाएंगे।

रितेश अग्रवाल
व्यापारी

पिछली सरकार ने विकास के कार्य किए जो जनता को पसंद आ रहे हैं। इस लिए वोट और सर्पोट सपा के साथ ही होगा।

लक्ष्मी नारायण शर्मा
व्यापारी

पिछले दस सालों से अराजकता का माहौल है, जनता परेशान है। हर पद पर एक जाति विशेष के लोग काबिज हैं। जनता त्राहि-त्राहि कर रही है। इस लिए परिर्वतन जरूरी है, सरकार तो भाजपा की ही बनेगी।

प्रो.आनंद अग्रवाल
हेड पिडिआर्टिक्सह विभाग केजीएमयू

70 वर्षों से इमानदार नेता की जरूरत थी जो अब मोदी जी के रूप में पूरी होती दिख रही है। दूसरे प्रदेशों की अपेक्षा उ.प्र. अभी विकास में बहुत पीछे है, गुण्डों और लुटेरों के हौसले बुलंद हैं। जनता भी भाजपा ही चाह रही है।

विजय मिश्रा
प्रापर्टी डीलर

सभी दल नोट बंदी के बाद से खुद में उलझे हैं सपा में अंर्तकलह है। भाजपा सरकार बनाने में सक्षम दिख रही है।

एम.के. जौहर
व्यापारी

भाजपा इमानदार पार्टी है, लूटपाट और भ्रष्टाचार पर रोक लगाने के लिये बीजेपी की सरकार बनाएंगे।

शैलेन्द्र श्रीवास्तेव
निजी कम्पएनी के कर्मी

फ्री के मोबाईल और लैपटॉप के लालच से लोगों को बचना चाहिए। भविष्यद के बारे में सोचें और एक मजबूत सरकार बनाएं। हम भाजपा के साथ हैं।

अभिजीत सारस्व
छात्र

मोदी जी ने नोटबंदी कर देश में हो रहे भ्रष्टाबचार पर अंकुश लगाया है। हम भाजपा की सरकार लाएंगे।

रमेश सहगल
व्यापारी

व्यापारी और जनता लूटपाट गुंडाराज से त्रस्तट है , हमें एक सशक्तभ और इमानदार सरकार चाहिए। इसलिए भाजपा ही विकल्पर है।

श्रीकान्त
व्या‍पारी

मोदी जी केन्द्र में अच्छास काम कर रहे हैं, उनके नेतृत्व में बनने वाली प्रदेश सरकार भी इमानदारी से अपना काम करेगी इस उम्मीद के साथ हम भाजपा सरकार बनाएंगे।

संतोष श्रीवास्तव
व्यापारी

मोदी के नोटबंदी वाले कदम ने आम जनता को एक उम्मीाद दिखाई है, अब नीतीश कुमार के साथ बढ रही नजदीकियों से ये उम्मी द है कि बिहार की तरह यूपी में भी शराबबंदी कानून लागू हो सकता है। इसलिये वोट तो भाजपा को ही देंगे।

विजय कुमार शर्मा
व्यापारी

गैर भाजपा सरकारों ने हमेशा प्रदेश और देश को लूटा है। मोदी राज में पहली बार इतना काला धन देश के अंदर से ही निकल कर बाहर आया है। इमानदारी की मिसाल हैं मोदी सरकार भाजपा की होगी।

प्रदीप सिंह
दुकानदार

सपा में टूट फूट मची है बसपा के पास मुद्दा नहीं है नोटबंदी से परेशान जनता बीजेपी से भी नाखुश हुई है कांंग्रेस बहुत पीछे हैं ऐसी स्थिति में किसी को स्पस्ट बहुमत नहीं मिलेगा ।

रवींद्र कुमार
दुकानदार

सपा सरकार में गुंडागर्दी और गरीबों पर अत्याैचार के मामले बढे़ हैं। इसे रोकने के लिए बसपा की सरकार बननी चाहिए।

जावेद
छात्र

अखिलेश यादव ने हर वर्ग के लिये काम किये हैं । इसलिये सपा की सरकार बननी चाहिए।

जय प्रकाश चतुर्वेदी
पूर्व सैनिक

उद्योग धंधे नहीं हैं बेरोजगारी बढ रही है । कांग्रेस की सरकार बननी चाहिए तभी काम बनेगा।

श्रीपति यादव
पूर्व विधायक

अखिलेश की छवि बेदाग रही है वो विकास कर रहे हैं। सपा की ही सरकार बनेगी।

दर्शन वर्मा
समाजसेवी

प्रदेश में काम हुए हैं जनता खुश है फिर अखिलेश को चुनेगी सपा की ही सरकार बनेगी ।

लालदेव यादव
नागरिक

पिछले पांस वर्षों में काम अच्छेा हुए हैं अखिलेश यादव की सरकार बननी चाहिए ।

तेज बहादुर
नागरिक

जनता गुण्डानराज और बढ रहे अपराधों से परेशान हुई है। इस बार बसपा की सरकार बनेगी।

अतुल रावत
छात्र

मोदी जी के नोट बंदी वाले कदम को जनता ने सराहा है। इसलिए सरकार भाजपा की ही बनेगी।

जवाहर प्रसाद
छात्र कर्मचारी नेता

अखिलेश ने प्रदेश को विकास की राह दिखायी है । समाजवादी पार्टी की सरकार बनेगी ।

पवन कुमार मिश्र
नागरिक

भय और भ्रष्टा चार से जनता परेशान हो गई है । नेता मोदी जैसा होना चाहिये । इसलिये सरकार भाजपा की बनेगी

जितेंद्र गुप्ता
पेपर विक्रेता

खिचड़ी सरकार बनेगी किसी को पूर्ण बहुमत नहीं मिलने वाला । सरकार सब की रही किया किसी ने कुछ नहीं सिवाए वोट मांगने के ।

लालधर
नागरिक

मोदी की इमानदार छवि और कुशल नेत्रत्वि को देखते हुए प्रदेश में भी भाजपा की सरकार बनेगी ।

मो.आसिम

पारिवारिक कलह सपा को कमजोर कर रही है, कुनबा एक हो जाए तो सरकार सपा की ही बनेगी।

गुलजार राणा

सपा सरकार में हुई अराजकता और गुण्डाह राज ने बसपा शासन की कानून व्योवस्था को याद करने पर मजबूर कर दिया है। माया सरकार बनेगी।

नरेश यादव

मोदी सरकार के अच्छेर कामों को जनता ने सराहा है, एक इमानदार सरकार की जरूरत है। विकल्पन भाजपा ही दिख रही है।

देवी प्रसाद चौधरी

कुछ कह नहीं सकते जनता अबकी शांत है, उम्मी द है कि मिलीजुली सरकार बनेगी।

श्याम मोहन

अखिलेश ने हर वर्ग के लिए काम किए हैं विकास किया है जनता को उन पर विश्वा स है। सरकार अखिलेश की ही बनेगी।

राकेश कुमार सिंह

अभी तक किसी राजनैतिक दल को बहुमत मिलता नहीं दिख रहा है। चुनाव नजदीक आने पर ही तस्वीुर साफ होगी।

मनोज अग्रवाल

माहौल भाजपा के पक्ष में बनता दिख रहा है। उम्मींद है मोदी का जादू चलेगा।

लाल बहादुर

इस बार सपा और कांग्रेस मिलकर सरकार बनाएंगे और मुख्यामंत्री अखिलेश यादव होंगे।

पहले ये तय हो कि हम घर को बचाएं कैसे।। दरअसल सत्तारुढ़ समाजवादी पार्टी चल रहा वर्चस्व का संघर्ष और पार्टी की हालत को यह शेर बखूबी बयां करता है। लोगों से बातचीत में भी यह बात खुलकर सामने आयी कि सत्तारुढ़ समाजवादी सरकार का काम तो बेहतर था लेकिन आपसी कलह के कारण उन्हें फायदा कम मिलेगा। इसका लाभ अन्य पार्टियों को ज्यादा मिलेगा। हालांकि लोग भाजपा को मजबूत संघर्ष में होने और सरकार का दावेदार भी बताते हैं लेकिन इसका फैसला तो आम लोगों को करना है। इसके लिए 11 मार्च तक इंतजार करना होगा।
एंटी रोमियो स्क्वायड सही या गलत ?
सियासी दलों की जुमलेबाजी कितनी जायज
आप अपने विधायक से कब मिले...
पार्टियों की कथनी-करनी में कितना अंतर
जनता दागियों को करेगी माफ या साफ
क्‍या मुस्लिम विरोधी हैं अखिलेश यादव
साइकिल बिन कितनी दूर जायेगी सपा ?
पिता-पुत्र की लड़ाई का चुनाव पर असर ?
नोटबंदी: कितना सफल कितना फेल?

Comment Form is loading comments...