Home Public Poll What Should our Attitude be Towards China

दिल्ली के उस्मान पुर के करतार नगर मे एक शख्स की गोली मारकर हत्या

हिजबुल का नया वीडियो जारी, पुलिस से छीने हथियार के साथ दिखे पुलवामा के 3 युवक

जयपुर : गैग बिल के विरोध में मार्च कर रहे पत्रकारों को पुलिस ने रोका

सीमा पर शहीद जवानों को 1 करोड़ देने पर विचार कर रही सरकार : राजनाथ सिंह

1986 बैच के IAS अधिकारी उत्पल कुमार होंगे उत्तराखंड के नए मुख्य सचिव

  • कैसा होना चाहिए चीन के प्रति रवैया?
  • सिक्कम के रास्ते भारतीय सीमा में घुसपैठ की चीन की हरकतों को लेकर दोनों ही देश में तल्खी बढ़ गई है। जी 20 सम्मेलन हो या फिर आशियान देशों में भारत के प्रधानमंत्री का अंदाज। इससे चीन और भारत के संबंधों में तनाव जरूर दिखने लगा है। रक्षा मंत्री की सख्त टिप्पणी के बाद चीन ने भी तिलमिलाते हुए प्रतिक्रिया दी। इसी का नतीजा था कि कैलाश मानसरोवर यात्रा में भी चीन ने विध्न डालने का काम किया जबकि इसके लिए दोनों देशों के बीच समझौता है। अब भारत और चीन के बीच बढ़ती तल्खी आम लोगों के बीच है। लोग भी अपनी समझ और विवेक से इस पर प्रतिक्रिया दे रहे है। लोगों का मानना है कि हमें चीन निर्मित सामानों का बहिष्कार कर देना चाहिए। आर्थिक रूप से चीन को हराकर हम उस पर कहीं ज्यादा बेहतर तरीके से हरा सकते हैं। दि राइजिंग न्यूज प्रतिनिधियों को लोगों ने प्रतिक्रिया दीं वह कुछ यूं रहीं. . .
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll
Public Poll

  • चीन के रवैये से हर वर्ग के लोग नाखुश हैं। सीधे तौर पर भले ही चीन से युद्ध करने के पक्ष में लोग नहीं है लेकिन उनका मानना है कि चीन को सबक सिखाने का सबसे बेहतर माध्यम चीन निर्मित उत्पादों का बहिष्कार किया जाना है। पिछली दीपावली के पर्व पर स्कूली बच्चों की अपील से ही चीन हिल गया था और उस वक्त को केवल चीन निर्मित झालरों –लाइटों के बहिष्कार की बात थी। आज हमारा देश दुनिया का सबसे बड़ा उपभोक्ता देश है और इस बाजार में चीन की भी बड़ी हिस्सेदारी है। अगर हम चीन निर्मित उत्पादों का बहिष्कार कर देंगे तो उसकी कमर अपने आप टूट जाएगी। इस आर्थिक मार से चीन की चौधराहट भी कम होगी।