Home International News Pop Used Rohingya Word In Bangladesh

योगी: राम मंदिर पर अपना रुख साफ करें राहुल गांधी

पीएम मोदी की नकल करते हैं राहुल गांधी: मुख्तार अब्बास

जम्मू के डोडा जिले में ताजा बर्फबारी, उत्तराखंड केदारनाथ धाम में भी 2 इंच बर्फबारी

श्र‍ीनगर पुलिस ने 3 संदिग्ध को किया गिरफ्तार, 13,63,500 पुराने नोट बरामद

चेन्नई में घने कोहरे के चलते दो विमानों को बंगलुरु डायवर्ट किया गया

आखिर लोगों का क्यों फूटा पोप पर गुस्सा?

International | 04-Dec-2017 14:05:54 | Posted by - Admin
   
Pop Used Rohingya Word in Bangladesh

दि राइजिंग न्यूज़

इंटरनेशनल डेस्क।

 

बांग्लादेश की यात्रा के दौरान पोप फ्रांसिस को “रोहिंग्या मुसलमान शब्द” कहना भारी पड़ गया है। इस बावत उन्हें सोशल मीडिया तीखी प्रतिक्रियाएं भी मिलीं। हालांकि, कुछ दिन पहले ही म्यंमार की अपनी यात्रा के दौरान पोप ने रोहिंग्याओं की त्रासदी पर सार्वजनिक रूप से कोई बयान नहीं दिया था।

पढ़िए पूरा माजरा

 

शुक्रवार को कैथोलिक चर्च के प्रमुख ने बांग्लादेश की राजधानी ढाका में म्यंमार के राज्यविहीन मुस्लिम अल्पसंख्यकों समुदाय के शरणार्थियों के एक समूह से मुलाकात की। उन्होंने उन शरणार्थियों के लिए “रोहिंग्या” शब्द का इस्तेमाल किया। यह शब्द म्यंमार में कई लोगों को अस्वीकार्य है। म्यंमार में उन्हें अलग जातीय समूह की बजाय अवैध “बंगाली”  प्रवासी कहा जाता है। अपनी म्यंमार यात्रा के दौरान सार्वजनिक भाषण में फ्रांसिस ने नाम से समूह का उल्लेख नहीं किया और न ही राखाइन प्रांत में संकट का सीधे तौर पर उल्लेख किया। राखाइन प्रांत से अगस्त से छह लाख 20 हजार से अधिक रोहिंग्याओं को भागना पड़ा है।

पोप के इस सावधानी बरतने की म्यंमार के छोटे कैथोलिक अल्पसंख्यक समुदाय के साथ-साथ कट्टरपंथी बौद्धों ने तारीफ की थी। म्यंमार के कट्टरपंथी बौद्ध इन दिनों रोहिंग्याओं के साथ सलूक को लेकर वैश्विक नाराजगी के बाद रक्षात्मक हैं। रोहिंग्याओं द्वारा अगस्त के उत्तरार्द्ध में पुलिस चौकी पर जानलेवा हमला करने के बाद म्यामां की सेना ने राखाइन प्रांत में उनके खिलाफ कार्रवाई की थी। अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र ने इसे जातिय सफाये की संज्ञा दी थी।

वेटिंकन लौटने के बाद पोप ने कहा कि उन्होंने म्यामां में निजी बैठक में रोहिंग्याओं के मुद्दे को उठाया था। उन्होंने कहा था कि शरणार्थियों के समूह से मिलने के बाद वह कैसे रोए। उनके इस बयान को लेकर म्यामां सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रिया हुई। आंग सो लिन नाम के एक व्यक्ति ने फेसबुक पर लिखा, ‘‘वह गिरगिट की तरह है जो मौसम की तरह रंग बदलता है।’’ सो सो नाम के एक अन्य व्यक्ति ने लिखा, ‘‘उन्हें अलग-अलग शब्दों का इस्तेमाल करने के लिये सेल्समैन या ब्रोकर होना चाहिये था, हालांकि वह एक धार्मिक नेता हैं।’’

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news




sex education news