Rani Mukerji to Hoist the National flag at Melbourne Film Festival

दि राइजिंग न्यूज़

इस्लामाबाद।

 

पाकिस्तान के फॉरेन मिनिस्टर ख्वाजा आसिफ ने कहा है कि अगर अमेरिका हमे सबूत देता है तो हम उसके साथ मिलकर हक्कानी नेटवर्क को खत्म करने के लिए एक ज्वाइंट ऑपरेशन चलाने को तैयार हैं।

आसिफ ने वॉशिंगटन में टॉप यूएस ऑफिशियल्स से की थी मुलाकात...

 

ख्वाजा आसिफ हाल ही में वॉशिंगटन गए थे और वहां उन्होंने ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन के टॉप ऑफिशियल्स से मुलाकात की थी। आसिफ ने एक्सप्रेस न्यूज से बातचीत में कहा, "हमने अमेरिकी ऑफिशियल्स से कहा है कि वह पाकिस्तान आएं और वहां हक्कानी नेटवर्क को सुरक्षित पनाह का सबूत दें। अगर यूएस ऑफिशियल्स टारगेट एरिया में हक्कानी नेटवर्क की कोई गतिविधि पाते हैं तो हमारे सैनिक अमेरिकी सैनिकों के साथ मिलकर उसे हमेशा के लिए खत्म कर देंगे।"

 

क्या है हक्कानी नेटवर्क?

 

हक्कानी नेटवर्क एक आतंकी संगठन है। अफगानिस्तान में ये अमेरिकी हितों के खिलाफ काम कर रहा है। इस गुट ने पिछले कुछ सालों में वहां अपहरण और हमलों की कई वारदातों को अंजाम दिया है। अफगानिस्तान में यह संगठन भारतीय हितों के खिलाफ भी काम कर रहा है।

भारत के खिलाफ हमलों में भी हक्कानी का हाथ

 

हक्कानी नेटवर्क ने 2008 में काबुल में इंडियन मिशन पर हमला किया था जिसमें 58 लोग मारे गए थे। अमेरिका ने कहा था पाकिस्तान में पनाह लेने वाला हक्कानी नेटवर्क तालिबान के साथ मिलकर अफगानिस्तान में हमले कर रहा है। इसी साल जून में काबुल के वीवीआईपी इलाके में हमला हुआ था। इसमें 21 लोग मारे गए थे जबकि करीब 400 घायल हुए थे। हमले का आरोप हक्कानी नेटवर्क पर ही लगा था। खास बात ये है कि जिस इलाके में ये हमला हुआ था वहां भारत, फ्रांस, जापान और तुर्की की एम्बेसीज हैं।

ट्रम्प ने अगस्त में पाक को दी थी वॉर्निंग

 

ट्रम्प ने इसी साल 21 अगस्त को पाकिस्तान को सीधी वॉर्निंग दी थी। देश के नाम अपनी स्पीच में ट्रम्प ने कहा था, "पाकिस्तान में लोग आतंकवाद से पीड़ित हैं, लेकिन आज पाकिस्तान आतंकियों के लिए सेफ हैवन भी है। अगर पाकिस्तान आतंकी संगठनों का साथ देता रहा तो हम इस पर चुप नहीं बैठेंगे।"

 

"अफगानिस्तान में हमारे प्रयासों से जुड़कर पाकिस्तान को बहुत फायदा हुआ है, हम पाक को बिलियन डॉलर भेजते रहे, उसी वक्त वो आतंकियों की पनाहगाह भी बनता गया। लिहाजा अब आतंकियों को खत्म करने में वह हमारी मदद करे। अब वक्त आ गया है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में पाकिस्तान अपना कमिटमेंट दिखाए।"

अर्लिंगटन के फोर्ट मेइर मिलिट्री बेस से देश को संबोधित करते हुए ट्रम्प ने अफगानिस्तान और साउथ एशिया को लेकर यूएस की रणनीति की जानकारी दी थी। उसी दौरान उन्होंने पाकिस्तान को चेतावनी भी दी थी।

 

बता दें कि पाक ने देश में पनाह लिए आतंकी गुटों के खिलाफ सख्त रवैये का सबूत तब दिया है, जब यूएस प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प ने इस मुद्दे पर अपना रुख बेहद सख्त कर लिया है और पाक को इसके लिए वॉर्निंग भी दी है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll