Kajol Says SRK is Giving Me The Tips of Acting

दि राइजिंग न्यूज़

इंटरनेशनल डेस्क।

 

11 दिनों के एशियाई दौरे पर आए अमेरिकन प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प बुधवार को चीन की राजधानी बीजिंग पहुंचे। जापान और साउथ कोरिया के दौरे के बाद चीन ट्रम्प के पूरे दौरे का सबसे अहम देश है। सीपीसी चुनाव के बाद ट्रम्प शी जिनपिंग से मुलाकात करने वाले पहले लीडर होंगे। माना जा रहा है कि इस बार ट्रम्प और जिनपिंग की मुलाकात में बिजनेस और नॉर्थ कोरिया द्वारा की जाने वाली न्यूक्लियर टेस्टिंग अहम मुद्दा रहेंगे।

एक जैसी हैं चीन और अमेरिका की जरूरतें....

 

चीन के सरकारी अखबार पीपुल्स डेली में छपी खबर के मुताबिक, “एक समान हितों के बावजूद चीन और अमेरिका के रिश्ते को बेहतर बनाने के लिए सावधानीपूर्वक कदम उठाने होंगें।”

 

अखबार में लिखा है कि “अगर चीन मजबूत होता है तो यह संबंधों को संभालने में पुराने ढंग से अपनी सोच को नहीं दोहराएगा। बल्कि चीन अमेरिका के साथ बगैर किसी संघर्ष के सहयोगात्मक और परस्पर लाभदायक संबंध बनाने के लिए काम करेगा।"

सामाचार पत्र ने आगे लिखा है कि "कोरियाई प्रायद्वीप परमाणु मुक्त करने और वहां शांति और स्थिरता की रक्षा के लिए चीन और अमेरिका के समान हित हैं।"

 

रिपोर्ट्स के मुताबिक, शी जिनपिंग ने ट्रम्प के सम्मान में भव्य स्वागत समारोह आयोजित करने की योजना बनाई है।

 

गौरतलब है कि ये शी और ट्रंप के बीच तीसरी मुलाकात है। दोनों नेता सबसे पहले इस वर्ष अप्रैल में फ्लोरिडा के मार-ए-लागो में मिले थे और दूसरी बार जुलाई में जी-20 सम्मेलन से इतर जर्मनी के हेम्बर्ग में मिले थे।

चीन से की थी अपील

 

इससे पहले, साउथ कोरियाई संसद में ट्रंप ने चीन से “संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध को लागू कर प्योंगयांग के साथ कूटनीति व व्यापार को कम करने के लिए कहा था।”

 

चीन के उप विदेशमंत्री झेंग जेगुआंग ने कहा, "शी और ट्रंप नई सहमति, साझा समझ व दोस्ती बढ़ाने की साझा चिंता के लिए महत्वपूर्ण मुद्दों पर रणनीतिक संवाद करेंगे।"

झेंग ने कहा, "औपचारिक गतिविधियों के अलावा दोनों देशों के प्रमुखों के लिए अनौपचारिक बातचीत की भी व्यवस्था की गई है।"

 

यह साल पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन के चीन के “महत्वपूर्ण” दौरे की 45वीं वर्षगांठ है, जिससे दोनों देशों के बीच संबंधों को सामान्य करने में मदद मिली थी।

जापान में भी धमकी दे चुके हैं ट्रम्प

 

इससे पहले जापान दौरे पर लगातार दूसरे दिन उन्होंने नॉर्थ कोरिया को चेतावनी दी थी। ट्रम्प ने कहा कि नॉर्थ कोरिया के खिलाफ अब रणनीतिक धैर्य दिखाने का समय खत्म हो गया।

 

उन्होंने कहा कि नॉर्थ कोरिया का न्यूक्लियर प्रोग्राम विश्व सभ्यता, अंतरराष्ट्रीय शांति और स्थिरता के लिए खतरा है। ट्रम्प का यह बयान नॉर्थ कोरिया के खिलाफ सभी विकल्पों पर विचार करने की नीति को जापान से समर्थन मिलने के बाद आया है।

जापान ने लगाए प्रतिबंध

 

जापान के पीए शिंजो आबे ने कहा कि हम 100% किसी भी विकल्प पर अमेरिका के साथ हैं। नॉर्थ कोरिया से बात करने के लिए और 20 साल इंतजार नहीं कर सकते हैं। आबे ने 35 कोरियाई समूहों और लोगों की संपत्तियों पर प्रतिबंध लगाए जाने की भी घोषणा की।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement