Home International News China Russia Assure Support To Pakistan

PNB महाघोटाला: देश के 15 शहरों में 45 ठिकानों पर ED की छापेमारी

सुकमा एनकाउंटर: नक्सलियों ने की रोड कंस्ट्रक्शन कंपनी के मैनेजर की हत्या

सनातन धर्म को लोग हिन्दू धर्म कहते हैं, यह हमसे चिपक गया है: मोहन भागवत

छत्तीसगढ़: सुकमा में नक्सलियों से मुठभेड़ में 6 सुरक्षाकर्मी घायल

PNB घोटाला: दिल्ली के साकेत मॉल, वसंतकुंज और रोहिणी में ED की छापेमारी

अमेरिका खिलाफ, तो रूस-चीन पाक के साथ!

International | 13-Sep-2017 08:45:25 AM | Posted by - Admin

   
China Russia Assure Support to Pakistan

दि राइजिंग न्‍यूज

इस्‍लामाबाद।

 

हाल ही में यूएस ने पाक के सबसे बड़े बैंक पर बैन लगाकर उसके खिलाफ अपनी मंशा जाहिर की है। वहीं चीन और रूस ने पाकिस्तान को राजनयिक स्तर पर यह आश्वासन दिया है कि अगर अमेरिका पाकिस्तान के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र में आर्थिक प्रतिबंध लगाने का कोई भी कदम उठाता है तो वे अपने वीटो पावर का इस्तेमाल करेंगे।

पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अगस्त में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आतंकवादियों को सुरक्षित पनाह गाह मुहैया कराने के लिए इस्लामाबाद की आलोचना की थी। जिसके बाद से पाकिस्तान और अमेरिका के बीच संबंध खराब हुए हैं।

 

पाकिस्तानी अखबार डेली एक्सप्रेस ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि अमेरिका ने उन पाकिस्तानी अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाने के संकेत दिए हैं, जिनके आतंकवादियों के साथ कथित तौर पर संबंध हैं। इसके जवाब में प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने सोमवार को चेतावनी दी थी कि पाकिस्तानी अधिकारियों पर लक्षित प्रतिबंध से अमेरिका के आतंकवाद विरोधी प्रयासों में कोई सहायता नहीं मिलेगी।

 

इस्लामाबाद स्थित राजनयिक सूत्रों ने डेली एक्सप्रेस से कहा कि विदेश नीतियों के जानकार, सुरक्षा अधिकारी और उच्च सरकार अधिकारी वॉशिंगटन के लिए नई विदेश नीति तैयार करने के लिए विचार मंथन कर रहे हैं।

 

वहीं, द एक्सप्रेस ट्रिब्यून के मुताबिक, पाकिस्तान वीटो पावर रखने वाले चीन और रूस के साथ संपर्क में है, जिन्होंने पाकिस्तान पर अनावश्यक दबाव बनाने की अमेरिकी नीति का विरोध किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि दोनों महाशक्तियों ने इस्लामाबाद को सभी मंचों पर हर संभव सहायता देने का आश्वासन दिया है। पाकिस्तान फ्रांस और ब्रिटेन जैसे अन्य पश्चिमी देशों से भी संपर्क करेगा।

 

समर्थन जुटाने दूसरे देशों के पास जा रहा पाक

बता दें कि अमेरिका की नई रणनीति की घोषणा के बाद ट्रंप प्रशासन के सहयोगियों और पाकिस्तानी अधिकारियों के बीच कोई उच्च स्तरीय संपर्क नहीं है। हालांकि, अमेरिकी राजदूत डेविड हाले ने इस्लामाबाद में पाकिस्तानी नागरिक और सैन्य अधिकारियों से मुलाकात की है।

बदले परिदृश्य में पाकिस्तान ने अमेरिकी राष्ट्रपति की आलोचनाओं के बीच समर्थन जुटाने के लिए अहम अंतरराष्ट्रीय तथा क्षेत्रीय देशों से संपर्क करना शुरू कर दिया है। विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने इस सप्ताह चीन, तुर्की और ईरान की यात्रा की है।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news