Baaghi 2 Assistant Director Name Came in Physical Assault

दि राइजिंग न्यूज़

इंटरनेशनल डेस्क।

 

चीन का नापाक चेहरा एक बार फिर दुनिया के सामने आ गया है। एक रिपोर्ट के अनुसार, चीन दुनिया के सामने बेशक यह दिखाने की कोशिश कर रहा है कि वह उत्तर कोरिया पर संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा लगाए प्रतिबंधों को लागू करवाने के लिए प्रतिबद्ध है लेकिन चोरी-छिपे वह प्योंगयांग की मदद कर रहा है।

 

अमेरिका के खुफिया विभाग ने उत्तर कोरिया की मदद करते हुए चीन के 6 जहाजों को पकड़ा है। अधिकारियों ने सैटेलाइट और दूसरे खुफिया तरीकों के जरिए चीन के कार्गो जहाजों के बारे में सूचनाएं इकट्ठा की हैं। इन्हीं सूचनाओं के आधार पर यह बात सामने आई है कि चीन उत्तर कोरिया की मदद कर रहा है।

अमेरिकी खुफिया विभाग की रिपोर्ट के अनुसार पकड़े गए सभी कार्गो जहाज चीनी कंपनियों के हैं। विभाग द्वारा इकट्ठा किए गए सभी सबूत संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध समिति के सामने पेश किए गए हैं। जिसके बाद अमेरिका ने सभी कार्गो जहाजों पर संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के नियम का उल्लंघन करने का आरोप लगाने की मांग की है। चीन ने अमेरिका की मांग पर जहां यूएन को 4 जहाजों को ब्लैकलिस्ट करने की अनुमति दे दी है। वहीं उसका कहना है कि बाकी के पकड़े गए 6 जहाज चीनी कंपनियों के नहीं हैं।

 

खुफिया विभाग द्वारा दी गई रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन के पकड़े गए सभी जहाज गैर-कानूनी तरीके से उत्तर कोरिया से कोयला ले जाकर उन्हें रूस, वियतनाम सहित दूसरे देशों के जहाजों को ट्रांसपोर्ट कर रहे थे। इसी बीच चीन ने जहाज के एक मैनेजर को पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया है। मालूम हो कि अमेरिका ने उत्तर कोरिया द्वारा लगातार किए जा रहे मिसाइल और परमाणु परीक्षण की वजह से उसपर प्रतिबंध लगाने के पक्ष में वोट दिया है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement