Sanjay Dutt invited Ranbir and Alia For Dinner

दि राइजिंग न्यूज़

इंटरनेशनल डेस्क।

 

सीरिया में विद्रोहियों के कब्जे वाले पूर्वी घोउटा में सीरियाई सेना ने अबतक का सबसे बड़ा हमला किया है। सेना के विमान इलाके में हर मिनट 25 से 30 गोले दाग रहे हैं। विद्रोहियों पर दो दिनों से जारी बमबारी में अबतक करीब 250 लोग मारे जा चुके हैं। इनमें 50 से ज्यादा बच्चे शामिल हैं। यूनाइटेड नेशंस की रिपोर्ट के मुताबिक, इन हमलों में 6 अस्पताल भी तबाह हो चुके हैं और अगर बमबारी इसी तरह जारी रही तो हालात नियंत्रण के बाहर चले जाएंगे। हालांकि, रिपोर्ट्स पर सीरियाई सेनाओं की तरफ से कोई बयान नहीं जारी किया गया है।

2105 के बाद मौत का सबसे बड़ा आंकड़ा

सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स के मुताबिक, दो दिनों से जारी हवाई हमलों में कम से कम 250 लोग मारे जा चुके हैं। पिछले 48 घंटों में नागरिकों की मौत का ये आंकड़ा 2013 के केमिकल अटैक के बाद सबसे ज्यादा है। सीरिया में काम करने वाले एक्टिविस्ट्स ने बताया कि ईस्टर्न घोउटा में मंगलवार को 10 गावों और छोटे शहरों को फिर से निशाना बनाया गया। सेना के हमलों के कारण अब तक 15 हजार लोग अपने घर छोड़कर भाग चुके हैं।

 

नरसंहार कर रही सीरियाई सेनाएं- डॉक्टर

स्थानीय अस्पताल में घायलों के इलाज में लगे डॉक्टर ने बताया कि लहूलुहान एक बच्चा मेरे पास आया। उसके मुंह में रेत भरी थी। मैंने अपने हाथ से रेत निकाली। वह रेत के साथ ही सांस ले रहा था।  घोउटा के हालात 1990 के दशक जैसे हो गए हैं। उस दौर में जिस प्रकार से घोउटा में नरसंहार हुए थे, उसी प्रकार से सेना आज नरसंहार कर रही है। ये हवाई हमले नहीं हैं, बल्कि सामूहिक हत्या है।

ईस्टर्न घोउटा पर क्यों हमला कर रहीं सेना?

ईस्टर्न घोउटा में इस्लामिक संगठन जैश अल-इस्लाम का शासन है। हालांकि, अल-कायदा समर्थित आतंकी संगठन तहरीर अल-शाम भी यहां मौजूद है। माना जाता है कि ये विद्रोहियों के कब्जे वाला आखिरी बड़ा शहर है। ‌घोउटा की आबादी 4 लाख है। यह 2012 से विद्रोहियों के कब्जे में है। सीरिया और ईरान ने इस क्षेत्र को विद्रोही क्षेत्र घोषित किया है। यूएन की रिपोर्ट्स पर सीरियाई सेना की ओर से कोई बयान नहीं जारी किया गया है। हालांकि, हमलों सेना का कहना है कि उसने सिर्फ आतंकी ठिकानों पर ही निशाना साधा है और ये एकदम सटीक थे।

 

3 महीने में 800 लोगों की मौत

कुछ दिन पहले ही यूएन ने सीरियाई सेना से कहा था कि उसके हमले में विद्रोहियों के कब्जे वाले घोउटा में निर्दोष नागरिक और बच्चे मारे जा रहे हैं। ये हमले तुरंत बंद होने चाहिए। इसके बाद भी हमले जारी हैं। बताया गया है कि 3 महीनों में अकेले घोउटा में 800 लोग मारे गए हैं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll