• वसंतकुंज और मालवीय नगर बिना कागजात के रह रहे 20 विदेशी पकड़े गए
  • एवरेस्‍ट पर चढ़ने के बाद गायब भारतीय रवि कुमार मृत पाए गए
  • सिख विरोधी दंगा मामले में जगदीश टाइटलर ने लाई डिटेक्‍टर टेस्‍ट कराने से किया इंकार
  • मुंबईः कॉकपिट से धुआं निकलने के बाद एयर इंडिया फ्लाइट की इमरजेंसी लैंडिंग, सभी यात्री सुरक्षित
  • लखनऊ: IAS अनुराग तिवारी की मौत के मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ FIR
  • कोयला घोटाला: पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता को 2 साल की सजा
  • PM मोदी की हत्या करने के लिए 50 करोड़ रुपये का ऑफर, विदेश से आई कॉल

Share On

Kids World | 24-Oct-2016 03:58:54 PM
मोबाइल से नींद खो देगा बच्‍चा

  • बच्चों को शांत रखने को न लें मोबाइल फोन या सोशल मीडिया का सहारा
  • इनके इस्तेमाल की वजह से बच्चों का खुद की भावनाओं पर नियंत्रण खत्‍म



 दि राइजिंग न्‍यूज

हम सभी को यह बात मालूम है कि बचपन में दिमाग का विकास होता है। इस समय बच्चों को खेलने, सोने, अपनी भावनाओं को हैंडल करने और रिश्तों को बनाने का समय चाहिए होता है। वहीं ज्यादातर समय उन्हें फोन देने या सोशल मीडिया तक पहुंच होने की वजह से इन चीजों पर उसका प्रभाव साफ दिखाई देता है। उनकी जिंदगी में डिजिटल मीडिया की पहुंच ज्यादा देर तक रहने की वजह से नींद, विकास, शारीरिक सेहत पर भी बुरा प्रभाव पड़ सकता है।


आमतौर पर भारत में मां-बाप अपने बच्चों को चुप करवाने के लिए मोबाइल फोन पकड़ा देते हैं। इससे आपका बच्चा चुप हो जाता है और आप आराम से काम कर लेते हैं, लेकिन बच्चों को इस तरीके से चुप नहीं करवाना चाहिए। चाहे बेशक इससे घर में शांति ही क्यों नहीं बनी रहती है। अमेरिकन एकेडमी ऑफ पेडियाट्रिक ने हाल ही में पैरेंट्स के लिए कुछ दिशा-निर्देश जारी किए हैं।


शोध में विकास पर प्रभाव

जिसके अनुसार बच्चों के गेजैट्स इस्तेमाल के बेशक कुछ फायदे होते हों लेकिन इसके बावजूद माता-पिता को बच्चों को शांत रखने के लिए इनका उपयोग नहीं करना चाहिए। अमेरिका की मिशिगन यूनिवर्सिटी सीएस मोट्ट चिल्ड्रन हॉस्पिटल के जेनी रेडेस्की के अनुसार इनके इस्तेमाल की वजह से बच्चों का खुद की भावनाओं पर नियंत्रण नहीं रह पाता है। वहीं डिजिटल मीडिया कई छोटे बच्चों की जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया है। जेरेनी ने कहा कि हमारी रिसर्च उनके विकास में आ रहे प्रभावों तक सीमित है।


भावनाओं को हैंडल करें

रेडेस्की ने कहा- हम सभी को यह बात मालूम है कि बचपन में दिमाग का विकास होता है। इस समय बच्चों को खेलने, सोने, अपनी भावनाओं को हैंडल करे और रिश्तों को बनाने का समय चाहिए होता है। वहीं ज्यादातर समय उन्हें फोन देने या सोशल मीडिया तक पहुंच होने की वजह से इन चीजों पर उसका प्रभाव साफ दिखाई देता है। हमारे शोध की वजह से परिवार और पेडियाट्रिक्स बच्चों के बेहतर विकास में सहायता कर सकते हैं।

 

फोन तक पहुंच केवल एक घंटे

2 से 5 साल तक के बच्चों की सोशल मीडिया या फोन तक पहुंच केवल एक घंटे तक होनी चाहिए। इसके अलावा खेल-कूद जैसी एक्टिविटीज में उनकी सक्रियता बढ़ाने की कोशिशें करनी चाहिए, जिसमें कि पैरेंट्स भी सम्मिलित हों। अगर कोई पैरेंट बच्चे से दूर रहता है तो उसे भी वीडियो चैट को नजर अंदाज करना चाहिए। उनकी जिंदगी में डिजिटल मीडिया की पहुंच ज्यादा देर तक रहने की वजह से नींद, विकास, शारीरिक सेहत पर भी बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 


 



   Photo Gallery   (Show All)
मौसम ने बदली करवट............दिन में ही हो गई शाम कुछ इस तरह रहा शहर का नजारा । फोटो - कुलदीप सिंह
मौसम ने बदली करवट............दिन में ही हो गई शाम कुछ इस तरह रहा शहर का नजारा । फोटो - कुलदीप सिंह

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें