• Cbseresults.nic.in और Cbse.nic.in पर नतीजे घोषित
  • वैष्णो देवी के रास्ते पर लगी भीषण आग, बंद किया गया नया मार्ग
  • राहुल गाँधी ने सहारनपुर पहुँचकर पीड़ितों से मुलाकात की
  • कपिल का केजरीवाल पर आरोप- स्‍वास्‍थ्‍य विभाग और एंबुलेंस खरीद में किया घोटाला
  • 30 मई को देशभर में बंद रहेंगी दवा दुकानें
  • श्रीलंका में आए भीषण बाढ़ और भूस्‍खलन में करीब 100 लोगों की मौत
  • पंजाब के पूर्व डीजीपी केपीएस गिल का दिल्‍ली के अस्‍पताल में निधन
  • उरी में भारतीय सेना पर हमले की कोशिश नाकाम, मारे गए पाक की BAT के दौ सैनिक
  • झारखंड के डुमरी बिहार स्‍टेशन पर नक्‍सलियों का हमला, मालगाड़ी के इंजन में लगाई आग
  • "नो एंट्री" के बावजूद राहुल गांधी यूपी-हरियाणा बॉर्डर से पैदल जा रहे हैं सहारनपुर
  • कल घोषित होगें सीबीएसई और परसों आईसीएसई के 12वीं के नतीजे
  • सहारनपुर हिंसा: गृह सचिव ने लोगों के घर-घर जाकर माफी मांगी
  • पीएम मोदी ने आज देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन किया

Share On

Senior Citizen | 17-May-2016 02:20:20 PM
98 वर्षीय एंजेला के घर फ्री में पहुंचता है टिफिन का डिब्बा


 मुंबई:  
मुंबई के बोरीवली इलाके में 98 साल की एंजेला फर्नांडिस अकेले रहती हैं। एक रिटायर्ड स्कूल टीचर एंजेला अपनी पेंशन से घर चलाती हैं लेकिन इस उम्र में खाना पकाना उनके लिए मुश्किल है। इसलिए यह ज़िम्मेदारी अपने कंधे पर लेते हुए 58 साल के मार्क डीसूज़ा फ्री टिफिन सर्विस के ज़रिए एंजेला का ख्याल रखते हैं।
फर्नांडिस कहती हैं जहां तक पैसों की बात है तो मैं अपने किसी भी बच्चे पर बोझ नहीं हूं। मैं अपनी पेंशन से काम चला लेती हूं इसलिए खर्चा करने में मुझे कोई दिक्कत नहीं है। मार्क ने तीन साल पहले यह टिफिन सर्विस शुरू की थी। फर्नांडिस जैसे 25 वरिष्ठ नागरिकों के लिए मार्क ने यह मुफ्त टिफिन सर्विस शुरू की है जिससे जुड़ी भावनाएं सिर्फ खाने तक सीमित नहीं है। फर्नांडिस बताती हैं ऐसा लगता ही नहीं है कि वह आपको फ्री में खाना दे रहा है। वो इतना खुशी खुशी आता है ऐसा लगता है जैसे किसी पार्टी में आया हो।

टिफिन सर्विस के पीछे की सोच
मार्क ने अपने माता-पिता को काफी कम उम्र में खो दिया था। वह बताते हैं कि टिफिन सर्विस उनकी एक सोच थी जिसको अमली जामा पहनाने का काम उनकी पत्नी ने किया है। मार्क अपनी पत्नी के बारे में बताते हैं ट्यूशन से उसकी जो कमाई होती है उसमें से उसने मुझे 5 हज़ार रूपए देते हुए कहा कि तुम्हें जो कुछ भी शुरू करना है अभी करो।
अब आलम यह है कि पूरा डीसूज़ा परिवार ही इस काम में लग गया है - सब्ज़ी खरीदने से लेकर, सफाई करना, खाना पकाना और टिफिन बॉक्स पैक करना। चंद टिफिन से शुरू किया गया यह काम अब 25 लोगों के लिए टिफिन बनाता है और इनका रोज़ का कुल खर्चा 15 हज़ार रूपए बैठता है। इतना आगे आने के बाद आज भी मार्क अपने हाथों से सबको टिफिन देना पसंद करते हैं।
अपने अनुभव के बारे में बात करते हुए मार्क ने कहा जब आप खुद उम्रदराज़ होने लगते हैं तब बुढ़ापे के मायने समझ आते हैं और किस तरह लोग खुद को चार दीवारों के बीच फंसा हुआ पाते हैं। जब मैं टिफिन बाटंता हूं तो वो लोग मुझे धन्यवाद देते हैं, आशीर्वाद देते हैं। यह दो शब्द मेरे लिए बहुत मायने रखते हैं। लोगों के चेहरे पर मुस्कुराहट, आभार और मीठे बोल ही मार्क के लिए सबसे बड़ा ईनाम है।
"> 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 


 



   Photo Gallery   (Show All)
जब सांझ ढले तब दिन ढल जाये। फोटो - कुलदीप सिंह
जब सांझ ढले तब दिन ढल जाये। फोटो - कुलदीप सिंह

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें