• राहुल गांधी कल जाएंगे सहारनपुर पीडि़तों से मिलने
  • कल घोषित हो सकते हें सीबीएसई के 12वीं के नतीजे
  • सहारनपुर हिंसा: गृह सचिव ने लोगों के घर-घर जाकर माफी मांगी
  • पीएम मोदी ने आज देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन किया
  • बाबरी मस्जिद विध्वंस केस: आज आरोप तय करेगी CBI की स्पेशल कोर्ट
  • सहारनपुर में हिंसा के बाद धारा 144 लागू, इंटरनेट सेवा पर भी बैन
  • मोदी सरकार के 3 साल के जश्न में सहयोगी मुख्यमंत्रियों को न्योता नहीं- सूत्र
  • मैसूर ब्लास्ट केस में NIA ने फाइल की चार्जशीट

Share On

Kids World | 25-Jul-2016 03:29:23 PM
अंगूठा चूसने की है आदत? कम होगी एलर्जी



 


दि राइजिंग न्‍यूज ब्‍यूरो

मेलबर्न।  

एक नए अध्ययन से पता चला है कि अपने अंगूठे चूसने वाले या अपने नाखुन कुतरने वाले बच्चों में एलर्जी विकसित होने की संभावना कम रहती है। अध्ययनकर्ताओं ने कहा है कि जिन बच्चों में यह बुरी आदते हैं तो उन्हें भी घर के धूल के कण, घास, बिल्ली, कुत्ते और घोड़ें आदि से कम एलर्जी होने की संभावना रहती है। 


पूर्व में न्यूजीलैंड के डुनेडिन स्कूल ऑफ मेडिसिन के साथ काम करने वाले और वर्तमान में कनाडा के मैकमास्टर युनिवर्सिटी से जुड़े हुए मैल्कम सियर्स ने कहा, हमारी खोज इस स्वच्छता के सिद्धांत के समान है कि जीवन के आरंभिक समय में धूल या कीटाणुओं से संपर्क होने से एलर्जी के विकसित होने का खतरा कम रहता जाता है। 


सियर्स ने कहा, हालांकि हम इन आदतों को प्रात्साहित किए जाने की सिफारिश नहीं करते हैं लेकिन इन आदतों के सकारात्मक पहलू भी सामने आए हैं। इस अध्ययन को पीडियाट्रिक्स पत्रिका में प्रकाशित किया गया था।

 

(एजेंसी)

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 


 



   Photo Gallery   (Show All)
"जब सांझ ढले तब दिन ढल जाये"  । फोटो - कुलदीप सिंह
"जब सांझ ढले तब दिन ढल जाये" । फोटो - कुलदीप सिंह

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें