• दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको ने इस्तीफे की पेशकश की
  • कांग्रेस महासचिव गुरुदास कामत ने पार्टी के सभी पदों से दिया इस्तीफा
  • कुलभूषण जाधव की मां ने बेटे की सजा के खिलाफ पाकिस्तान में दायर की याचिका
  • दिल्ली एमसीडी में बीजेपी की जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी बधाई
  • दिल्ली बीजेपी कार्यालय के बाहर लगी होर्डिंग- सुकमा शहीदों को समर्पित है यह जीत
  • दिल्ली में केजरीवाल के घर पहुंचे "आप" के बड़े नेता, हो रही है मीटिंग
  • एमसीडी चुनाव के रूझान के बाद मनोज तिवारी ने केजरीवाल का इस्तीफा मांगा
  • सेंसेक्स रिकॉर्ड 30,030 प्वाइंट के साथ खुला, निफ्टी 9,328.75
  • सुकमा हमले पर गृह मंत्रालय ने CRPF से मांगी रिपोर्ट
  • दिल्ली एमसीडी चुनाव की काउंटिंग शुरू
  • शशिकला के गिरफ्तार भतीजे दिनाकरन की आज कोर्ट में होगी पेशी
  • दिल्ली एमसीडी चुनाव की काउंटिंग कुछ देर में शुरू होगी
  • पूर्व मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बच्चा पाठक का निधन

Share On

Events Lucknow | 11-Jan-2017 05:59:22 PM
लाहौल विला कूवत ने दर्शकों को जमकर हंसाया

  • राय उमानाथ बली प्रेक्षागृह मंचित नाटक



 

दि राइजिंग न्‍यूज

11 जनवरी, लखनऊ।

रंगयात्रा नाट्य समारोह में अनादि संस्था की ओर से नाटक लाहौल विला कूवतका मंचन राय उमानाथ बली प्रेक्षागृह में बुधवार को किया गया। मौलयर की लिखी इस कहानी का हिन्दी में रूपांतरण आत्माराम सावंत ने किया, जबकि इसका निर्देशन प्रसिद्घ रंगकर्मी मुन्नी देवी ने किया।

हास्य नाटक लाहौल विला कूवत की कहानी शराफत हुसैन और बड़े हुजूर नवाब के इर्द गिर्द घूमती है। शराफत किराए का मकान तलाश कर रहा होता है, इसी बीच उसे हुजूर नवाब के घर कमरा मिल जाता है। यहां उसके लिए परेशानी तब पैदा होती है जब शादी शुदा होने के बावजूद वो खुद को कुंवारा बताता है।

बहरहाल वो उस कमरे में रहने लगता है। वहीं रहने के दौरान नवाब की बेटी पम्मी का दिल शराफत पर आ जाता है, तो बड़े हुजूर नवाब भी उसे दामाद बनाने की चाहत में डूब जाते हैं। तभी कुछ दिनों बाद शराफत की बीवी शमीम वहां आ जाती है और तब शुरू होता है हंसने हंसाने का दौर।

नवाब साहब शमीम पर डोरे डालने लगते हैं तो पम्मी शराफत को दिलो जान से चाहने लगती है, मगर शराफत इन सबके बीच फंसकर आफत से निकलना चाहते हैं। इन सबके दौरान शमीम के अब्बा मीर साहब भी वहां पहुंच जाते हैं और इस कशमकश में उलझ जाते हैं। वो सब जानकर भी अंजान बने रहते हैं, लेकिन काफी कोशिशों के बाद अंत में वो हर राज से पर्दा उठाकर सब को सच बता देते हैं। हास्य से भरपूर इस नाटक में मोहम्‍मद सलमानी, अनिल विश्वकर्मा, सरिता यादव, कामिनी, धनराज बाजपेयी और प्रीति ने दमदार अभिनय से सबको खूब हंसाया।

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 


 

Newsletter

Click Sign Up for subscribing Our Newsletter

https://gcchr.com/


   Photo Gallery   (Show All)

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें