• Cbseresults.nic.in और Cbse.nic.in पर नतीजे घोषित
  • वैष्णो देवी के रास्ते पर लगी भीषण आग, बंद किया गया नया मार्ग
  • राहुल गाँधी ने सहारनपुर पहुँचकर पीड़ितों से मुलाकात की
  • कपिल का केजरीवाल पर आरोप- स्‍वास्‍थ्‍य विभाग और एंबुलेंस खरीद में किया घोटाला
  • 30 मई को देशभर में बंद रहेंगी दवा दुकानें
  • श्रीलंका में आए भीषण बाढ़ और भूस्‍खलन में करीब 100 लोगों की मौत
  • पंजाब के पूर्व डीजीपी केपीएस गिल का दिल्‍ली के अस्‍पताल में निधन
  • उरी में भारतीय सेना पर हमले की कोशिश नाकाम, मारे गए पाक की BAT के दौ सैनिक
  • झारखंड के डुमरी बिहार स्‍टेशन पर नक्‍सलियों का हमला, मालगाड़ी के इंजन में लगाई आग
  • "नो एंट्री" के बावजूद राहुल गांधी यूपी-हरियाणा बॉर्डर से पैदल जा रहे हैं सहारनपुर
  • कल घोषित होगें सीबीएसई और परसों आईसीएसई के 12वीं के नतीजे
  • सहारनपुर हिंसा: गृह सचिव ने लोगों के घर-घर जाकर माफी मांगी
  • पीएम मोदी ने आज देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन किया

Share On

Home | 10-Jan-2017 12:20:49 PM
वीडियो के बाद एलओसी से शिफ्ट होगा जवान

  • बोला - सरकार देती है पर अफसर बेंचते हैं राशन
  • बीएसएफ अधिकारी ने कहा- कई बार तोड़ चुका है अनुशासन



 

दि राइजिंग न्‍यूज

10 जनवरी, जम्‍मू।

जम्मू-कश्मीर में तैनात बीएसएफ के जवान का शिकायती वीडियो वायरल होने के बाद अब उसे एलओसी से शिफ्ट करने की तैयारी है। बीएसएफ के अफसरों का कहना है कि तेज बहादुर यादव पहले भी कई बार डिसिप्लिन तोड़ चुका है। उसे चार बार सजा भी दी जा चुकी है। उधर, राजनाथ सिंह ने जांच रिपोर्ट मांगी है। बता दें कि तेज बहादुर ने फेसबुक पर चार वीडियो पोस्ट किए थे। आरोप लगाया कि बॉर्डर पर जवानों को ठीक से खाना तक नहीं दिया जाता। अफसरों पर गंभीर आरोप लगाए। सोशल साइट्स पर यह वीडियो 65 लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका है।


बीएसएफ आइजी डीके उपाध्याय ने न्यूज एजेंसी से कहा, हैरानी की बात ये है कि डीआइजी मौके पर गए थे। उन्होंने तेज बहादुर समेत सभी जवानों से बातचीत की, लेकिन वहां किसी ने कोई शिकायत नहीं की। हो सकता है उसके इरादे कुछ और हों। तेज बहादुर को दूसरे हेडक्वॉर्टर शिफ्ट किया जाएगा, ताकि जांच के दौरान उस पर कोई दबाव नहीं डाला जा सके। डीआइजी लेवल के अफसरों ने पहले भी कैम्प का दौरा किया था, लेकिन वीडियो में जो शिकायतें की गईं, वो तब किसी ने वहां नहीं बताईं। वीडियो में दिख रहे जवान तेज बहादुर के खिलाफ डिसिप्लिन तोड़ने के आरोप लग चुके हैं। 2010 में उसका कोर्ट मार्शल किया गया था, लेकिन फैमिली को देखते हुए उसे बर्खास्त नहीं किया गया था। जवान के आरोपों की जांच की जा रही है। अगर कुछ गलत पाया गया तो सख्त कार्रवाई होगी। इस बात से सहमत हूं कि सर्दियों में पैक्ड फूड का टेस्ट कुछ बदल जाता है, लेकिन जवान इसकी शिकायत नहीं करते। ये सेंसिटिव इश्यू है। जांच के बाद एक्शन होगा।


बीएसएफ के डीआइजी एमडीएस मान ने मंगलवार को कहा,तेज बहादुर पर पहले भी गंभीर आरोप लग चुके हैं। 20 साल के करियर में उस पर इनटॉक्सिफिकेशन, अपने सीनियर की बात न मानना और मारपीट करने जैसे आरोप हैं। हमने वीडियो में कही बातों की जांच के आदेश दे दिए हैं।




रिजिजू ने कहा, मामला गंभीर

ये वीडियो सामने आने के बादगृह राज्य मंत्री किरण रिजिजु ने कहा, वीडियो को गंभीरता से लिया गया है। मैं जब भी जवानों के बीच बॉर्डर पर गयामुझे हर चीज काफी संतोषजनक लगी है।

उधरतेज बहादुर ने मंगलवार को मीडिया से कहा, मेरे आरोपों की भी जांच होनी चाहिए। अगर मेरी इस कोशिश से साथियों का भला होता है तो मैं हर बुरी चीज का सामना करने के लिए तैयार हूं।


वहीं बीएसएफ ने भी जांच शुरू कर दी थी। बीएसएफ के एक अधिकारी ने बताया कि यादव पर कई मामलों में अनुशासनात्‍मक कार्रवाई हो चुकी है। बीएसएफ अधिकारियों ने बताया कि तेज बहादुर यादव जहां पर तैनात है वह बीएसएफ की ट्रांजिंट पोस्‍ट है। इसका ऑपरेशनल कंट्रोल सेना के पास है और वहीं राशन मुहैया कराती है।

 

पोस्ट में अच्‍छी सुविधाएं नहीं

उन्‍होंने कहा कि इस तरह की पोस्ट में अच्‍छी सुविधाएं नहीं होती हैं क्‍योंकि ये अस्‍थायी तौर पर बनाई जाती है और दूरदराज के इलाकों में होती हैं। एक अधिकारी ने बताया कि यादव ने 31 जनवरी 2016 को स्‍वैच्छिक सेवानिवृति के लिए अर्जी दी थी।


उन्‍हें 10 दिन पहले संतरी की ड्यूटी पर तैनात किया गया था। अधिकारी ने बताया, ”यादव को आदेश ना मानने के चलते फटकारा जा चुका है और कम से कम चार बार बड़ी सजाएं दी गईं। इनमें शराब पीकर गाली-गलौच करना, अभद्र भाषा का इस्‍तेमाल, गैरमौजूद रहना और आधिकारिक आदेश से विपरीत काम करने के आरोप शामिल हैं। आखिरी अपराध के लिए उन्‍हें बीएसएफ कोर्ट ने सात दिन की कड़ी जेल की सजा दी थी।

 

क्या कहा है वीडियो में

  • वीडियो में यादव कहते हैं, देशवासियों मैं आपसे एक अनुरोध करना चाहता हूं।
  • हम लोग सुबह छह बजे से शाम पांच बजे तक, लगातार 11 घंटे इस बर्फ में खड़े होकर ड्यूटी करते हैं।
  • कितना भी बर्फ हो, बारिश हो, तूफान हो, इन्‍हीं हालातों में हम ड्यूटी कर रहे हैं।
  • फोटो में हम आपको बहुत अच्‍छे लग रहे होंगे मगर हमारी क्‍या सिचुएशन हैं, ये न मीडिया दिखाता है, न मिनिस्‍टर सुनता है।
  • कोई भी सरकार आईं, हमारे हालात वहीं हैं।
  • मैं इस के बाद तीन वीडियो भेजूंगा जिसको मैं चाहता हूं कि आप दिखाएं कि हमारे अधिकारी हमारे साथ कितना अत्‍याचार व अन्‍याय करते हैं।
  • हम किसी सरकार के खिलाफ आरोप नहीं लगाना चाहते। क्‍योंकि सरकार हर चीज, हर सामान हमको देती है। मगर उच्‍च अधिकारी सब बेचकर खा जाते हैं, हमारे को कुछ नहीं मिलता। इसकी जांच होनी चाहिए।
  • हम किसी सरकार के खिलाफ आरोप नहीं लगाना चाहते। क्‍योंकि सरकार हर चीज, हर सामान हमको देती है। मगर उच्‍च अधिकारी सब बेचकर खा जाते हैं, हमारे को कुछ नहीं मिलता।
  • कई बार तो जवानों को भूखे पेट सोना पड़ता है।
  • मैं आपको नाश्‍ता दिखाऊंगा जिसमें सिर्फ एक पराठा और चाय मिलता है, उसके साथ अचार नहीं होता।
  • दोपहर के खाने की दाल में सिर्फ हल्‍दी और नमक होता है, रोटियां भी दिखाऊंगा।
  • मैं फिर कहता हूं कि भारत सरकार हमें सब मुहैया कराती है, स्‍टोर भरे पड़े हैं मगर वह सब बाजार में चला जाता है। इसकी जांच होनी चाहिए।

तेज बहादुर पर अनुशासनहीनता के आरोप

गुरुवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो मैसेज के जरिए शिकायत करने वाले बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव पर अब अनुशासनहीनता के आरोप लग रहे हैं। बीएसएफ के एक अधिकारी ने बताया कि यादव पर कई मामलों में अनुशासनात्‍मक कार्रवाई हो चुकी है।


अधिकारी के मुताबिक यादव कई मामलों में सजा तक काट चुका है। इसके अलावा जवान पर सही तरीका अपनाने की जगह वीडियो के जरिए शिकायत करने पर अनुशासनहीनता के आरोप लग रहे हैं। हालांकि खुद जवान ने भी इन आरोपों पर अपनी सफाई पेश की है।

 

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 


 



   Photo Gallery   (Show All)
जब सांझ ढले तब दिन ढल जाये। फोटो - कुलदीप सिंह
जब सांझ ढले तब दिन ढल जाये। फोटो - कुलदीप सिंह

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें