• दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको ने इस्तीफे की पेशकश की
  • कांग्रेस महासचिव गुरुदास कामत ने पार्टी के सभी पदों से दिया इस्तीफा
  • कुलभूषण जाधव की मां ने बेटे की सजा के खिलाफ पाकिस्तान में दायर की याचिका
  • दिल्ली एमसीडी में बीजेपी की जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी बधाई
  • दिल्ली बीजेपी कार्यालय के बाहर लगी होर्डिंग- सुकमा शहीदों को समर्पित है यह जीत
  • दिल्ली में केजरीवाल के घर पहुंचे "आप" के बड़े नेता, हो रही है मीटिंग
  • एमसीडी चुनाव के रूझान के बाद मनोज तिवारी ने केजरीवाल का इस्तीफा मांगा
  • सेंसेक्स रिकॉर्ड 30,030 प्वाइंट के साथ खुला, निफ्टी 9,328.75
  • सुकमा हमले पर गृह मंत्रालय ने CRPF से मांगी रिपोर्ट
  • दिल्ली एमसीडी चुनाव की काउंटिंग शुरू
  • शशिकला के गिरफ्तार भतीजे दिनाकरन की आज कोर्ट में होगी पेशी
  • दिल्ली एमसीडी चुनाव की काउंटिंग कुछ देर में शुरू होगी
  • पूर्व मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बच्चा पाठक का निधन

Share On

Home | 10-Jan-2017 11:56:00 AM
मुलायम ने पोती को चि‍ढ़ाया, जिद्दी है तुम्‍हारा बाप



 


दि राइजिंग न्‍यूज ब्‍यूरो

10 जनवरी, लखनऊ।

समाजवादी कुन्‍बा भले ही दो खेमों में बंट गया हो लेकिन लेकिन इस परिवार की दो बच्चियां इस सियासी जंग से बेपरवाह होकर दोनों खेमों में रौनक लाती रहती हैं और शांति और सुलह बहाली की उम्मीदें जगाती रहती हैं।

ये भी पढ़ें

भारतीय रेल यात्री कृपया ध्यान दें! ये खबर आप के लिए

जब कब्र के पास लटका दिखा भूत”, देखें ये हैरतअंगेज वीडियो


जहां दोनों गुटों में कभी सुलह और कभी नाराजगी बनी हुई है, ऐसी स्थिति के बीच संवाद का बीड़ा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की बेटी 15 वर्षीय अदिति और 10 वर्षीय टीना ने उठाया है।

खबर के मुताबिक कुछ दिनों पहले सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने अपनी 10 वर्षीय पोती टीना को चिढ़ाते हुए कहा कि तुम्हारा बाप बहुत जिद्दी है। यह सुनते ही थोड़ी ही देर में टीना ने जाकर अपने पिता मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को हु-ब-हू संवाद सुना दिया। इसके जवाब में अखिलेश यादव ने मुस्कुराते हुए कहाहांवो तो है। अखिलेश और डिंपल यादव की बेटियां सियासी खींचतान की परवाह किए बिना अक्सर अपने दादा मुलायम सिंह से मिलने पहुंच जाती है।

ये भी पढ़ें

जब डिबेट में एक लड़का लड़की से हारा तो लड़की का किया ये हाल देखें वीडियो

रिजर्व बैंक ने नोटबंदी पर किया ये बड़ा खुलासा  

गौरतलब है कि अगले महीने उत्तर प्रदेश में विधान सभा चुनाव है और समाजवादी कुनबे में पार्टी पर वर्चस्व की लड़ाई जारी है। दोनों गुट फिलहाल चुनावी सभाओं से परहेज किए हुए है। दोनों की नजरें चुनाव आयोग पर टिकी हैं कि पार्टी का चुनाव चिह्न साइकिल किसे मिलता है।

इसबीच रह रहकर दोनों धड़ों में सुलह की भी कोशिशें होती रही हैं। एक तरफ मुलायम सिंह यादव के साथ छोटे भाई शिवपाल यादव और अमर सिंह हैं तो दूसरी तरफ मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के साथ दूसरे चाचा रामगोपाल यादव हैं। पार्टी का एक बड़ा तबका भी अखिलेश की ही तरफ है। लेकिन जब तक आयोग यह तय नहीं कर देता कि कौन सा धड़ा असली सपा हैतबतक चुनावी सरगर्मियों के बीच भी सपा में उदासी का आलम छाया हुआ ही रहने वाला है।

चुनाव आयोग ने दोनों गुटों से समर्थक विधायकोंविधान पार्षदोंसांसदों और पार्टी प्रतिनिधियों का हस्ताक्षरयुक्त हलफनामा सौंपने को कहा था। अखिलेश गुट पहले ही 1.5 लाख पन्नों का हलफनामा सौंप चुका है। मुलायम सिंह ने भी सोमवार को मिलकर चुनाव आयोग में अपने समर्थकों की लिस्ट और उनके हलफनामे सौंप दिए हैं। अब आयोग को इस पर फैसला करना है।

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 


 

Newsletter

Click Sign Up for subscribing Our Newsletter



   Photo Gallery   (Show All)

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें