• पंजाब के पूर्व डीजीपी केपीएस गिल का दिल्‍ली के अस्‍पताल में निधन
  • उरी में भारतीय सेना पर हमले की कोशिश नाकाम, मारे गए पाक की BAT के दौ सैनिक
  • ईवीएम चुनौती के लिए आवेदन का आज आखिरी दिन
  • झारखंड के डुमरी बिहार स्‍टेशन पर नक्‍सलियों का हमला, मालगाड़ी के इंजन में लगाई आग
  • शेयर बाजार की नई ऊंचाई, सेंसेक्‍स पहली बार पहुंचा 31,000 के पार
  • चीन सीमा के पास मिला तीन दिन से लापता सुखोई-30 का मल‍बा, पायलेट का पता नहीं
  • जेवर हाइवे गैंगरेप: पीडि़ता ने बदला अपना बयान
  • राहुल गांधी कल जाएंगे सहारनपुर पीडि़तों से मिलने
  • कल घोषित हो सकते हैं सीबीएसई के 12वीं के नतीजे
  • सहारनपुर हिंसा: गृह सचिव ने लोगों के घर-घर जाकर माफी मांगी
  • पीएम मोदी ने आज देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन किया
  • बाबरी मस्जिद विध्वंस केस: आडवाणी समेत 6 नेताओं को CBI कोर्ट ने किया तलब

Share On

International | 10-Jan-2017 11:52:12 AM
जिहादी हमलों को पोप ने बताया नरहत्या की सनक

  • कोई ईश्वर के नाम पर कभी हत्या नहीं कर सकता



 

दि राइजिंग न्‍यूज

10 जनवरी, वेटिकनसिटी।

पोप फ्रांसिस ने दुनियाभर में हो रहे जिहादी हमलों की शनिवार (9 जनवरी) को नरहत्या की सनक करार देकर निंदा की और सभी धार्मिक प्रमुखों से दृढता से यह आह्वान करने की अपील की कोई ईश्वर के नाम पर कभी हत्या नहीं कर सकता। 

दुनिया के 1.2 अरब रोमन कैथोलिकों के नेता ने सरकार के नेताओं से गरीबी से लड़ने का भी आह्वान किया, क्योंकि उनके अनुसार गरीबी कट्टरपंथ को फूलने-फलने की उर्वर जमीन प्रदान करती है। वैटिकन के राजनयिक कोर में अपने कठोर एवं व्यापक भाषण में 80 वर्षीय पोप ने इस बात पर दुख प्रकट किया है कि अब भी यदा-कदा धर्म का अस्वीकृति, हाशिये पर होने तथा हिंसा के बहाने के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है।

उन्होंने कट्टरपंथ प्रेरित आतंकवाद का हवाला दिया जिसने वर्ष 2016 में अफगानिस्तान, बांग्लादेश, बेल्जियम, बुरकिना फासो, मिस्र, फ्रांस, जर्मनी, इराक, जोर्डन, नाईजीरिया, पाकिस्तान, ट्यूनीशिया, तुर्की और अमेरिका में लोगों को अपना शिकार बनाया।

फ्रांसिस ने कहा, ये घृणित हरकते हैं जहां लोगों की हत्या करने जैसा कि नाइजीरिया में हुआ, प्रार्थना सभा में लोगों को, जैसा कि काहिरा के कोप्टिक कैथड्रल मे हुआ, यात्रियों एवं श्रमिकों, जैसा कि ब्रूसेल्स में हुआ, नाइस और बर्लिन में राहगीरों को, नये साल मना रहे लोगों जैसा कि इस्तांबुल में हुआ, को निशाना बनाने के लिए बच्चों का इस्तेमाल किया जाता है।

उन्होंने कहा, हम नरहत्या करने की सनक की स्थिति से जूझ रहे हैं जहां वर्चस्व एवं ताकत के खेल में हत्या फैलाने के लिए ईश्वर के नाम का दुरुपयोग किया जाता है। उन्होंने कहा, अतएव, मैं सभी धार्मिक प्रमुखों से इस बात का दृढ़ता से आह्वान करने में साथ आने की अपील करता हूं कि कोई ईश्वर के नाम पर हत्या नहीं कर सकता।

(एजेंसी)

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 


 



   Photo Gallery   (Show All)

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें