• पंजाब के पूर्व डीजीपी केपीएस गिल का दिल्‍ली के अस्‍पताल में निधन
  • उरी में भारतीय सेना पर हमले की कोशिश नाकाम, मारे गए पाक की BAT के दौ सैनिक
  • ईवीएम चुनौती के लिए आवेदन का आज आखिरी दिन
  • झारखंड के डुमरी बिहार स्‍टेशन पर नक्‍सलियों का हमला, मालगाड़ी के इंजन में लगाई आग
  • शेयर बाजार की नई ऊंचाई, सेंसेक्‍स पहली बार पहुंचा 31,000 के पार
  • चीन सीमा के पास मिला तीन दिन से लापता सुखोई-30 का मल‍बा, पायलेट का पता नहीं
  • जेवर हाइवे गैंगरेप: पीडि़ता ने बदला अपना बयान
  • राहुल गांधी कल जाएंगे सहारनपुर पीडि़तों से मिलने
  • कल घोषित हो सकते हैं सीबीएसई के 12वीं के नतीजे
  • सहारनपुर हिंसा: गृह सचिव ने लोगों के घर-घर जाकर माफी मांगी
  • पीएम मोदी ने आज देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन किया
  • बाबरी मस्जिद विध्वंस केस: आडवाणी समेत 6 नेताओं को CBI कोर्ट ने किया तलब

Share On

Varanasi | 29-Dec-2016 02:37:56 PM
काशी विद्यापीठ के कुलपति डॉ. नाग बने एनएजीआइ के अध्यक्ष



 

दि राइजिंग न्‍यूज

29 दिसंबर, वाराणसी। 

महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के कुलपति डॉ. पृथ्वीश नाग के नाम बुधवार को एक और उपलब्धि जुड़ गई। डॉ. पी नाग को नेशनल एसोसिएशन ऑफ जियोग्राफर ऑफ इंडिया ने अपना अध्यक्ष चुना है। भूगोल के क्षेत्र में काम करने वाली देश की सबसे बड़ी संस्था के चार हजार सदस्यों ने डॉ. नाग को यह दायित्व सौंपी। मैसूर में आयोजित तीन दिवसीय (26 से 28 दिसंबर) 38वें इंडियन जियोग्राफी कांग्रेस में बुधवार को इसकी घोषणा हुई। बता दें कि नेशनल एसोसिएशन ऑफ जियोग्राफी ऑफ इंडिया का गठन 1972 दिल्ली में हुआ था। जियोग्राफी के प्रसार-प्रसार के लिए यह संस्था देश भर विभिन्न कार्यक्रम करती रहती है। 1986 में बनारस में भी संस्था का अधिवेशन आयोजित हो चुका है।

काशी विद्यापीठ के कुलपति ने बताया कि एनएजीआइ के अध्यक्ष का तीन साल का कार्यकाल होता है। इसमें पहले साल प्रसिडेंट इलेक्ट, दूसरे साल प्रेसिडेंट और तीसर व अंतिम साल में पास्ट प्रेसिडेंट होता है। डॉ. नाग ने कहा कि देश में भूगोल का प्रचार-प्रसार व उसका विकास करना प्राथमिकता है। देश में भूगोल के क्षेत्र में शोध, स्टडी व उसके अनुप्रयोगों को प्रमोट करना है। इसके साथ ही भूगोल के माध्यम से देश के विकास में सहयोग करना प्रमुख उद्देश्य है।

इससे पहले काशी विद्यापीठ के कुलपति डॉ. पी नाग यूएस कंसल्टेंट, नेटमों के डायरेक्टर, सर्वेयर जनरल ऑफ इंडिया, इसराके के वैज्ञानिक के पदों का सफलता पूर्वक निर्वहन कर चुके हैं। डॉ. नाग के नाम एक साथ तीन विश्वविद्यालय के कुलपति रहने का कीर्तिमान भी है। इसके अलावा डॉ. नाम को मैडल ऑफ एसोसिएशन ऑफ अमेरिकन जियोग्राफर्स, भास्कर अवार्ड, यूजिट एक्ससिलेंसी अवार्ड के साथ ही कई अन्य प्रतिष्ठित पुरस्कारों ने नवाजा जा चुका है।

 

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 


 



   Photo Gallery   (Show All)
"जब सांझ ढले तब दिन ढल जाये"  । फोटो - कुलदीप सिंह
"जब सांझ ढले तब दिन ढल जाये" । फोटो - कुलदीप सिंह

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें