• राहुल गांधी कल जाएंगे सहारनपुर पीडि़तों से मिलने
  • कल घोषित हो सकते हें सीबीएसई के 12वीं के नतीजे
  • सहारनपुर हिंसा: गृह सचिव ने लोगों के घर-घर जाकर माफी मांगी
  • पीएम मोदी ने आज देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन किया
  • बाबरी मस्जिद विध्वंस केस: आडवाणी समेत 6 नेताओं को CBI कोर्ट ने किया तलब
  • सहारनपुर में हिंसा के बाद धारा 144 लागू, इंटरनेट सेवा पर भी बैन
  • मोदी सरकार के 3 साल के जश्न में सहयोगी मुख्यमंत्रियों को न्योता नहीं- सूत्र
  • मैसूर ब्लास्ट केस में NIA ने फाइल की चार्जशीट

Share On

Kids World | 8-Dec-2016 12:40:39 PM
बच्चों से कभी न कहें ये पांच बातें



 

दि राइजिंग न्‍यूज

बच्चों की परवरिश आसान नहीं होती। खासतौर से यदि मां और पापा दोनों वर्किंग हैं तो चुनौती और भी बढ़ जाती है। बच्चों को अनुशासित रखने के लिए या सुधारने के लिए हम कई बार उनसे ऐसी बात कह बैठते हैं, जो उनके कोमल मन पर नकारात्मक छाप छोड़ जाता है।

 

वो सुरधने की बजाय डरने लगते हैं। उनके दिमाग में वो बातें बैठ जाती हैं। यह बेहद खतरनाक साबित हो सकता है। बच्चों में पर्सनैलिटी डेवलपमेंट के इशू आ सकते हैं। ऐसे में यह जान लेना और भी जरूरी हो जाता है कि बच्चों से क्या न कहा जाए...

 

मैं भी पढ़ाई में इतनी ही बुरी थी/था

बच्चा स्टडीज में अच्छा प्रदर्शन नहीं दिखा रहा है या अच्छे ग्रेड्स नहीं ला पा रहा है तो उसे मॉरली संभालने के लिए ये कहना गलत होगा कि मैं भी पढ़ने में कमजोर थी या था। इस बात से बच्चा पढ़ाई को लेकर और भी लचर और लापरवाह हो जाएगा। आप पढ़ाई के लिए बच्चे पर ज्यादा दबाव न बनाएं, पर ऐसा कह कर बच्चे को बिल्कुल रिलैक्स न छोड़ें। बच्चे को कड़ी मेहनत के लिए प्रेरित करें।

 

पापा से शिकायत

आमतौर पर घरों में पापा की छवि एक अनुशासित व्यक्त‍ि की तरह होती है पर जब आप बार-बार पापा के नाम की धमकी देकर आप बच्चों को अनुशासित करने की कोशिश करती हैं तो उनके मन में पापा के लिए डर पैदा हो जाता है। उनके मन में पापा के लिए सम्मान की जगह खौफ पनपने लगता है।

 

हमेशा ताना देना ठीक नहीं

बच्चों को बार-बार ताना न दें। बार-बार एक ही बात बोलने और ताना देने से बच्चे उन्हें गुस्सैल और चिढ़चिढ़े हो जाते हैं। वो जिद्दी होने लगते हैं।

 

तुम खूबसूरत नहीं

कई बार हम अपने बच्चों में न चाहते हुए भी भेदभाव दर्शा देते हैं। अपने बच्चे की तुलना किसी दूसरे बच्चे से न करें। दूसरा बच्चा आपके बेटे या बेटी से तेज है या खूबसूरत है, इस तरह की तुलना न करें। इससे बच्चे में हीन भावना पनपने लगेगी। वह उस बच्चे से भी अच्छी तरह बात नहीं करेगा, जिससे उसकी तुलना की जाती है।

 

मोटापे का एहसास

आप डायट पर हैं या अपना वजन घटाना चाहती हैं, यहां तक तो ठीक है। पर यह बात बच्चों के सामने जाहिर न करें। बच्चे बेवजह में वेट को लेकर सतर्क हो जाते हैं और खाना ठीक से नहीं खाते। इसलिए बार-बार उनके सामने वेट मशीन पर खड़ी न हों और न ही उनसे ये कहें कि आजकल आप वजन घटाने की मुहिम में जुटी हैं।

 

Share On

अन्य खबरें भी पढ़ें

Comment Form is loading comments...

खबरें आपके काम की

 


 



   Photo Gallery   (Show All)
"जब सांझ ढले तब दिन ढल जाये"  । फोटो - कुलदीप सिंह
"जब सांझ ढले तब दिन ढल जाये" । फोटो - कुलदीप सिंह

शहर के कार्यक्रम एवं शिक्षा से जुड़ीं ख़बरें