Home National News When SC Opens At Night For Hearing Case

बिहार म्यूजियम के डिप्टी डायरेक्टर ने डायरेक्टर से की मारपीट

मायावती के बयान से साफ, गठबंधन बनेगा- अखिलेश यादव

कश्मीरः पूर्व मंत्री चौधरी लाल सिंह के भाई को तलाश रही पुलिस, CM के अपमान का केस

गुजरातः आनंद जिले के पास सड़क हादसे में 5 लोगों की मौत

देवेंद्र फडणवीस बोले, पिछले तीन साल में 7 करोड़ शौचालय बने

जब रात में खुले अदालत के दरवाज़े...

National | Last Updated : May 17, 2018 11:37 AM IST

When SC Opens At Night For Hearing Case


दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

देश की शीर्ष अदालत ने बुधवार आधी रात के बाद विशेष सुनवाई करते हुए कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के शपथग्रहण पर अपनी मुहर लगा दी। कांग्रेस-जदएस ने राज्यपाल के फैसले के खिलाफ संयुक्त याचिका दायर करते हुए गुरुवार सुबह नौ बजे बीएस येदियुरप्पा को शपथ लेने से रोकने की मांग की थी।

 

इससे पहले देश में पहली बार 29 जुलाई 2015 को 3:20 बजे मुंबई सीरियल ब्लास्ट के दोषी याकूब मेमन की फांसी पर रोक लगाने की अर्जी पर सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट खुला था। प्रशांत भूषण समेत कई वकीलों ने SC में याकूब की फांसी रुकवाने को अर्जी दी थी। करीब तीन घंटे सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने अर्जी खारिज कर दी थी।

07 सितंबर, 2015

फांसी के तख्ते पर पहुंचने के कुछ घंटे पहले ही निठारी कांड के दोषी सुरेंद्र कोली को सुप्रीम कोर्ट से जीवनदान मिला। शीर्ष अदालत ने रात एक बजकर 40 मिनट पर फांसी के फैसले पर अमल एक सप्ताह के लिए टाल दिया। न्यायमूर्ति एचएल दत्तू व न्यायमूर्ति अनिल आर दवे की पीठ ने कोली की याचिका पर विशेष सुनवाई की थी।

 

29 जुलाई, 2015

1993 मुंबई बम धमाकों के दोषी याकूब मेनन की फांसी रोकने के लिए कुछ सीनियर वकीलों ने रात दो बजे सुप्रीम कोर्ट खुलवाया। 3:20 मिनट पर सुनवाई शुरू हुई। डेढ़ घंटे चली सुनवाई के बाद अर्जी खारिज कर दी गई। यह सुनवाई जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली तीन सदस्यीय पीठ ने की थी।

02 फरवरी, 2017

छत्तीसगढ़ की एक अदालत में नाबालिग आदिवासी लड़कियों को देह व्यापार के दलदल में धकेलने और दुष्कर्म के मामले की सुनवाई रात भर चली। विशेष अदालत ने सुबह 212 पन्ने का फैसला सुनाया। 7 अभियुक्तों को आजीवन कारावास, एक को 14 साल और एक को 10 साल की सजा सुनाई गई।

 

05 मई, 2018

बॉम्बे हाईकोर्ट के जस्टिस एसजे कथावाला ने गर्मी की छुट्टी से पहले लंबित मुकदमे निपटाने के लिए सुबह 3.30 बजे तक लगातार सुनवाई करके इतिहास रचा। पहले भी वह अपने चेंबर में देर रात तक मामलों की सुनवाई कर चुके हैं।

 



" जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...


Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


rising@8AM


Loading...