Home National News When Atal Bihari Bajpayee Came On A Bullock Cart

BJP और खुद PM भी राहुल गांधी का मुकाबला करने में असमर्थ: गुलाम नबी आजाद

जायरा वसीम छेड़छाड़ केस: आरोपी 13 दिसंबर तक पुलिस हिरासत में

J-K: शोपियां में केश वैन पर आतंकी हमला, 2 सुरक्षाकर्मी घायल

महाराष्ट्र: ठाने के भीम नगर इलाके में सिलेंडर फटने से लगी आग

गुजरात: दूसरे चरण के चुनाव के लिए प्रचार का कल आखिरी दिन

...जब बैलगाड़ी से संसद पहुंचे थे अटल बिहारी बाजपेयी

National | 21-Sep-2017 04:31:53 PM | Posted by - Admin

   
When Atal Bihari Bajpayee Came on A Bullock Cart

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत अपने निचले स्तर पर है, लेकिन भारत में पेट्रोल और डीज़ल के दाम लगातार बढ़ रहे हैं। केंद्र सरकार के मंत्री ऊल-जुलूल बयान दे रहे हैं, सरकार तेल के दाम बढ़ाने का बचाव भी कर रही है,  लेकिन शायद ही आपको पता हो कि पेट्रोलियम पदार्थों के दाम बढ़ने पर बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व पीएम अटल बिहारी बाजपेयी बैलगाड़ी से संसद पहुंचे थे।

44 साल पहले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी ने इसी मुद्दे पर इंदिरा गांधी की सरकार के ख़िलाफ़ हल्ला बोला था। बाजपेयी पेट्रोल की कीमत में हुई बढ़ोतरी के खिलाफ प्रदर्शन में बैलगाड़ी से संसद पहुंचे थे और अपना विरोध दर्ज किया था।

न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी थी ख़बर

अमेरिका के अंग्रेजी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स के 12 नंवबर, 1973 को प्रकाशित अंक के मुताबिक तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को संसद में विरोधी दलों के गुस्से का सामना करना पड़ा था।

इस दिन संसद में छह सप्ताह तक चलने वाले शीतकालीन सत्र की शुरुआत हुई थी।

दक्षिण और वामपंथी पार्टियों ने बढ़ी हुई कीमतों को रोकने में असर्मथता का आरोप लगाते हुए सरकार से इस्तीफ़े की मांग की थी।

उस समय जन संघ हुआ करता था जिसके नेता अटल बिहारी बाजपेयी थे। उनके साथ दो अन्य सदस्य भी बैलगाड़ी से संसद पहुंचे थे। कुछ सदस्य साइकिल से भी आए।

बग्घी से यात्रा कर रही थीं इंदिरा

वे देश में पेट्रोल और डीजल की कमी में इंदिरा गांधी का बग्घी से यात्रा करने का विरोध कर रहे थे। इंदिरा गांधी उन दिनों लोगों के बीच पेट्रोल बचाने का संदेश देने के लिए बग्घी से यात्रा कर रही थीं।

दाम बढ़ने का कारण क्या था

तेल का उत्पादन करने वाले मध्य-पूर्व देशों ने भारत को निर्यात होने वाले पेट्रोलियम पदार्थों में कटौती कर दी थी। जिसके बाद इंदिरा गांधी की सरकार ने तेल की कीमतों में 80 फीसदी से अधिक की बढ़ोतरी की थी।

1973 में तेल संकट तब आया था जब तेल निर्यात करने वाले देशों के संगठन यानी “ओपेक” ने दुनिया भर में तेल आपूर्ति में कटौती कर दी थी।

 

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news




sex education news