Jhanvi Kapoor And Arjun Kapoor Will Seen in Koffee With Karan

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

भारत के पूर्व नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (CAG) विनोद राय ने टू-जी मामले पर पहली बार चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने कहा कि मैंने किसी से भी बात नहीं की और इसके पीछे बहुत सारे कारण थे। आपको बता दें कि 2जी स्पेक्ट्रम मामले में हाल ही में बरी हुए ए राजा ने एक किताब लिखी है। इस किताब का नाम “2जी सागा अनफोल्ड्स” है, जिसमें उन्होंने पूर्व CAG विनोद राय का भी जिक्र किया है।

 

ए राजा ने विनोद राय पर सवाल उठाते हुए लिखा है कि उनका व्यवहार उस बिल्ली जैसा था जिसने अपनी आंखें बंद कीं और ऐलान कर दिया कि पूरे ब्रह्मांड में अंधेरा है। पूर्व दूरसंचार मंत्री और 2-जी घोटाले में हाल ही में बरी हुए डीएमके नेता ए राजा ने अपनी किताब “2जी सागा अनफोल्ड्स-ए राजा” में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर भी निशाना साधा था। राजा ने लिखा है कि 2-जी घोटालों के सूत्रधार पूर्व नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) विनोद राय थे।

ए राजा ने लिखा है कि मनमोहन सिंह को उनके सलाहकारों ने गलत तथ्य पेश किए थे। बावजूद इसके वो चुप्पी साधे रहे। उन्होंने इस बात का भी जिक्र किया है कि टेलीकॉम लॉबी ने प्रधानमंत्री कार्यालय पर भी प्रभाव डाला था।

 

ए राजा ने किताब में लिखा है कि तत्कालीन सीएजी विनोद राय ने 1.76 लाख करोड़ रुपये के राजस्व नुकसान का सिद्धांत दिया था। इस वजह से वही इस घोटाले का सूत्रधार थे। राजा ने यह भी लिखा है कि उनकी रिपोर्ट कचरा मात्र थी जिसे सर्वसम्मति से कूड़ेदान लायक माना गया है। राजा ने विनोद राय के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज करने की भी मांग की है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement