Baaghi 2 Assistant Director Name Came in Physical Assault

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

तुम मुझे खून दो, मैं तुम्‍हें आजादी दूंगा....! जय हिन्द।

 

ऐसे बेहतरीन नारों से देश को नई ऊर्जा देने वाले नेताजी सुभाष चंद्र बोस भारतीयता की एक अनोखी पहचान हैं। आज भी युवा उनसे प्रेरणा ग्रहण करते हैं। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की बात नेताजी सुभाष चंद्र बोस के बिना पूरी नहीं हो सकती है। 23 जनवरी 1897 को भारत के इस सपूत का जन्म बंगाल में प्रभावति देवी और जानकीनाथ बोस के घर पर हुआ था। 14 भाई-बहनों में बोसा का स्थान 9वां था। स्वतंत्रता के जुनून ने उन्हें लोगों के दिलों में एक हीरो बना दिया था। उनके ओजस्वी भाषणों को सुनकर युवा देश को गुलामी की जंजीरों से मुक्त करने के लिए निकल पड़ते थे। नेताजी एक युवा नेता थे। इनकी विचारधारा कांग्रेस से अलग थी इसलिए बाद में वे पार्टी से अलग हो गए थे। मगर 1938-39 तक उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष का पदभार संभाला था।

 

वह ऐसे वीर सैनिक हैं, जिनकी गाथा इतिहास सदैव गाता रहेगा। “जय हिन्द” का नारा भारत का राष्ट्रीय नारा बन गया। उन्होंने सिंगापुर के टाउन हाल के सामने सुप्रीम कमांडर के रूप में सेना को संबोधित करते हुए दिल्ली चलो का नारा दिया। सबसे पहले महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता कहकर नेताजी ने ही संबोधित किया था।

तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा-  इस नारे के बाद सभी जाति और धर्मों के लोग खून बहाने के लिए उठ खड़े हुए। आजाद हिन्द फौज ने अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, नागालैंड और मणिपुर में आजादी का झंडा लहराया। नेताजी ने द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान, अंग्रेजों के खिलाफ लड़ने के लिए जापान के सहयोग से आजाद हिन्द फौज का गठन किया।

पीएम मोदी ने शेयर की वीडियो

आज उनकी जयंती के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होंने लिखा- नेताजी सुभाष चंद्र बोस की वीरता हर भारतीय को गौरान्वित करती है। उनकी जयंती के मौके पर आज हम उन्हें नमन करते हैं। मोदी ने जिस वीडियो को शेयर किया है उसमें नेताजी के भाषण शामिल हैं। बता दें कि नेताजी ने आजाद हिंद फौज की स्थापना की थी। इसमें शामिल नौजवान देश की आजादी के लिए मर-मिटने को तैयार थे।

सुभाष चंद्र की जिंदगी से जुड़े कई रहस्यों से पर्दा उठाने के लिए भारत सरकार ने उनसे जुड़ी फाइलों को पब्लिक कर दिया था। हालांकि एक सवाल जिसका जवाब आज तक नहीं मिला है वो है कि क्या वाकई हवाई दुर्घटना में नेताजी की मौत हो गई थी या वे वेश बदलकर रह रहे थे। उनका नारा तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा आज भी युवाओं की रगों में जोश पैदा कर देता है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement