Mona Lisa to use her personal sari collection for new show

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने यूके पर निशाना साधते हुए यूएन में बदलाव की मांग उठाई है। दरअसल, इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस यानी आइसीजे में जज चुने जाने के लिए वोटिंग चल रही है। इसमें यूके और भारत के जज आमने-सामने हैं। भारत को जनरल एसेंबली में ज्यादा वोट मिले हैं लेकिन सिक्योरिटी काउंसिल में यूके की स्थिति मजबूत है। शशि थरूर का कहना है कि यूके ऐसा करके बहुमत की आवाज को अनसुना कर रहा है। ICJ का जज बनने के लिए भारत के जस्टिस दलवीर भंडारी और यूके के क्रिस्टिफर ग्रीनवुड के बीच मुकाबला है।

 

क्या है मामला: ICJ का जज बनाने के लिए जनरल काउंसिल और सिक्योरिटी काउंसिल दोनों के सदस्य वोट करते हैं। भारत के उम्मीदवार जस्टिस दलवीर भंडारी को जनरल एसेंबली में 115 वोट मिले थे वहीं यूके ने 74 वोट हासिल किए। 15 सदस्यों की सुरक्षा परिषद में भारत को छह और यूके को नौ वोट मिले। नियम के हिसाब से उम्मीदवार को जनरल एसेंबली में 97 वोट और सिक्योरिटी काउंसिल में 8 वोट मिलने चाहिए। वोटिंग का पहला राउंड शुक्रवार को हो चुका है, आगे का प्रोसेस सोमवार को होगा।

थरूर ने सात ट्वीट कर समझाया पूरा मामला

 

शशि थरूर ने कुल सात ट्वीट करके पूरे मामले को समझाया और बताया कि यूएन में क्या-क्या हुआ। भंडारी का जीतना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि ICJ ही कुलभूषण जाधव के मामले की सुनवाई कर रहा है। भारतीय नागरिक जाधव को पाकिस्तान ने जासूस बताकर कैद कर रखा है।

 

ICJ में कुल 15 जज होते हैं जिनका कार्यकाल नौ साल होता है, इसमें से पांच पोस्ट खाली हैं। फ्रांस, ब्राजील, लेबनान से जजों को चुन लिया गया है, अब भारत और यूके के बीच मुकाबला है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll