Home National News Reality Of The Life Of Red Light Area

पुलवामा में आतंकियों को पकड़ने के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया है: CRPF

राहुल गांधी ने ट्वीट कर PM से पूछे 3 सवाल, साधा निशाना

जब ट्रंप से पूछा गया कि वो विकास कैसे करेंगे तो उन्होंने कहा मोदी की तरह: योगी

नैतिकता के आधार पर केजरीवाल और उनके MLA इस्तीफा दें: रमेश बिधूड़ी

दबाव में हैं मुख्य चुनाव आयुक्त: अलका लांबा

रेड लाइट की हकीकत...ये कहानी पढ़कर सिहर उठेंगे

National | 16-Sep-2017 04:15:05 PM | Posted by - Admin

   
Reality of the Life of red Light area

दि राइजिंग न्‍यूज

जबलपुर।

 

फिल्‍मों के आपने कोठों और उसमें रहने वाली तवायफों की हालत देखी होगी लेकिन अगर आपको असलियत पता चल जाए तो रूह कांप उठेगी। नागपुर में एक ऐसा मामला सामने आया है।

 

यहां के गंगा जमुना के कोठे से एक लड़की को मुक्‍त कराया गया है जिसने 12 साल की उम्र से यातनाएं झेली और उसे देह व्‍यापार में झोंक दिया गया।

लड़की ने पुलिस को बताया है कि उसकी मां ने उसे 12 साल की उम्र में 80 हजार रुपये में कोठा संचालिका को बेचा था। उससे लगातार 12 साल से देह व्यापार कराया जा रहा था।

 

लड़की के बयान के आधार पर पुलिस ने मां और कोठा संचालिका के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। पुलिस ने आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।

दर्द के वो 12 साल

 

शिल्‍पा के 12 साल भीषण तकलीफ में बीते। उसको 12 साल की उम्र में पिता ने मात्र 80 हजार रुपये में बेच दिया था। अब वह 24 साल की हो गई है लेकिन मानसिक रूप से टूट चुकी है।

 

शिल्पा ने बताया कि उससे नागपुर के रेड लाइट एरिया में देह व्यापार कराया जाता था। उसे दो साल मुंबई में भी रखा गया। देह व्यापार से जो रकम मिलती थी वह कोठे की मालकिन रख लिया करती थी। उसे केवल खर्च के लिए 20 रुपये दिए जाते थे।


उसने दो बार नागपुर से भागने की कोशिश की। दोनों बार वह पकड़ी गई।  भागने की कोशिश में उसे यातनाएं दी गईं। कई बार रेड भी पड़ी, लेकिन हर बार कोठे की मालकिन ने उसे अपनी बेटी बताया।

 

शिल्‍पा को कोठे की मालकिन ने एक दूसरा नाम दिया था और वो नाम उसके हाथ में भी गुदवाया गया। वहां पर शिल्पा का आधार कार्ड भी बनवाया गया।

इसके बाद उसे मुंबई भेज दिया गया।  वह दो साल तक मुंबई में रही। उसे वापस फिर नागपुर ले आया गया।


फिर उसकी मुलाकात शहर में रहने वाले एक लड़के से हुई। शिल्‍पा ने उस लड़के को अपनी आप-बीती सुनाई।

लड़के ने फौरन शिल्‍पा की कहानी अपने परिवार वालों को बताई और इसके बाद परिवार वालों ने शिल्‍पा के परिजनों से संपर्क करने की कोशिश की।  शिल्‍पा के परिवार वालों ने पुलिस को इसकी सूचना दी।

 
पुलिस की टीम लड़की के भाई, चाचा और बुआ को लेकर नागपुर पहुंची। नागपुर से लड़की को मुक्त कराया।  जैसे ही पुलिस ने कोठे पर दबिश दी। कोठे की मालकिन मौके से फरार हो गई।


मां की हो चुकी है मौत
 

बेटी को बेचने के बाद मां अपने पति को भी छोड़कर भाग गई। शिल्पा के परिजनों ने बताया कि उसकी मां की चार-पांच साल पहले मौत हो चुकी है। परिवार में अब उसके पिता के अलावा एक छोटा भाई है, जो मजदूरी करता है।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news