Home National News Ram Vilas Paswan Statement Over Una Dalit Atrocities

1984 दंगे: सज्जन कुमार को राहत, बेल रद्द करने की SIT की मांग खारिज

PNB घोटाला: गिरफ्तार 12 आरोपियों से CBI की पूछताछ जारी

पुलिस ने वीके जैन का बयान बदलवाया: AAP नेता संजय सिंह

पटना: कोतवाली पुलिस ने 50 लाख कैश के साथ 2 युवक को पकड़ा

नीरव मोदी पर IT की कार्रवाई, हैदराबाद में गीतांजलि ग्रुप की SEZ यूनिट ज़ब्त

उना में दलितों पर हुआ अत्‍याचार “छोटी घटना”: पासवान

National | 12-Nov-2017 13:25:29 | Posted by - Admin
  • जिग्‍नेश ने इस बयान पर की पासवान के इस्‍तीफे की मांग
   
Ram Vilas Paswan Statement over Una Dalit Atrocities

दि राइजिंग न्‍यूज

अहमदाबाद।

 

गुजरात में बीजेपी का प्रचार करने पहुंचे देश के वरिष्ठ दलित नेता में शुमार केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने हैरान करने वाला बयान दिया। उन्‍होंने कहा कि उना में दलितों पर हुआ अत्याचार एक “छोटी घटना” थी।

 

 

लोक जनशक्ति पार्टी के प्रमुख पासवान गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी के लिए घर-घर जाकर प्रचार के लिए उतरे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यहां उन्होंने मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा, मैं इतना कहना चाहता हूं कि छोटी-मोटी घटनाएं होती रहती हैं। हमारे बिहार में भी ऐसी घटनाएं होती हैं। गुजरात में एक छोटी सी घटना... उना (घटना) हुई। गुजरात में खूब हंगामा मचा... लेकिन सरकार का काम है कार्रवाई करना। जब भी ऐसी घटना होती है, तो उसके बाद क्या कदम उठाए गए यह महत्वपूर्ण है।

 

 

पासवान ने कहा कि गुजरात भारत का केंद्र बिंदु है और उसे गर्व होना चाहिए कि देश के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री इस राज्य से हैं।

उना घटना को लेकर पासवान के इस बयान पर राष्ट्रीय दलित अधिकार मंच के संयोजक और राज्य में दलित चेहरे के तौर पर उभर जिग्नेश मेवानी ने आलोचना की है। उन्होंने इसे “शर्मनाक बयान” करार देते हुए पासवान के इस्तीफे की मांग की है।

 

 

मेवानी ने कहा, उना में दलितों पर अत्याचार को छोटी घटना बताने वाले पासवान का बयान शर्मनाक और उन दलितों के जख्म पर नमक छिड़कने जैसा है, जिन्हें अधनंगा करके पीटा और शहर में घुमाया गया। इस घटना को लेकर राज्यभर में हुए विरोध प्रदर्शन के दौरान करीब 30 दलितों ने जहर खा लिया, सड़कें और रेल लाइनें ठप रहीं। यह एक निर्मम घटना थी। हम यह मांग करते हैं कि इस तरह का शर्मनाक बयान देने वाले पासवान जी का बीजेपी इस्तीफा ले।

 

 

हालांकि जब पासवान से पूछा गया कि जुलाई 2015 में उना में दलितों की पिटाई को “छोटी घटना” बताते हुए इसे न्यायोचित बताने की कोशिश कर रहे हैं, तो उन्‍होंने साफ किया कि “दलित पर कहीं भी हुआ अत्याचार न्योयोचित नहीं ठहराया जा सकता। मेरा कहना है कि पीएम मोदी पहले ही सार्वजनिक मंच पर कह चुके हैं कि गोरक्षकों की किसी भी समाज विरोधी गतिविधि को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।”

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news