Irrfan Khan Writes an Emotional Letter About His Health

दि राइजिंग न्यूज़

श्रीनगर।

 

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि अगर जरूरत पड़ी तो एक साल में 50 बार कश्मीर आएंगे। राजनाथ ने कश्मीर की समस्या के हल के लिए 4C कम्पैशन (क्षमा), कम्युनिकेशन (बातचीत), कोएग्जिसटेंस (साथ मिलकर रहना) और कॉन्फिडेंस बिल्डिंग एंड कंसिस्टेंसी (भरोसा कायम करना और लगातार करते रहना) का सुझाव दिया है। बता दें कि राजनाथ हालात का जायजा लेने 4 दिन के कश्मीर दौरे पर गए हुए हैं। कांग्रेस का भी एक डेलिगेशन घाटी के 2 दिन के दौरे पर गया है।

कश्मीर में सुधरे हैं हालात...

 

न्यूज एजेंसी के मुताबिक राजनाथ ने कहा, "मुझे लगता है कि कश्मीर में हालात काफी बेहतर हुए हैं। हालांकि मैं ये दावा नहीं करता कि सबकुछ ठीक हो गया है। लेकिन इतना जरूर है कि तेजी से ठीक हो रहा है।"

 

क्या सरकार अलगाववादियों से बात करेगी, इस सवाल पर राजनाथ ने कहा, "मैं उन सब लोगों से मिलना चाहता हूं जो हमारी मदद करना चाहते हैं। इसके लिए औपचारिक न्योता देने जैसी कोई बात नहीं है। जो

लोग बात करना चाहते हैं, वो आगे आएं।"

आर्टिकल 35A पर राजनाथ बोले कि हम लोगों की भावनाओं को आहत नहीं करना चाहते। सरकार न तो इस मसले पर कुछ शुरू करेगी और न ही कोर्ट जाएगी।

 

"लागत बढ़ने के चलते जम्मू-कश्मीर का पीएम डेवलपमेंट पैकेज एक लाख करोड़ हो गया है।"

नौशेरा में क्या बोले राजनाथ

 

"सीजफायर वॉयलेशन में जो जवान 50% दिव्यांग हो गए हैं, उन्हें मुआवजे के तौर पर 5 लाख रुपए दिए जाएंगे। साथ ही सरकार ने सीजफायर वॉयलेशन में मारे जाने वाले नागरिकों के परिजन को दी जाने वाली मुआवजा राशि एक लाख से बढ़ाकर 5 लाख रुपए कर दी है। "

"मैंने अधिकारियों से कहा है कि कश्मीर के बॉर्डर के इलाकों से 60% रिक्रूटमेंट किए जाएं। जो लोग बॉर्डर के इलाकों में रहते हैं, वे उस देश के सबसे बड़े स्ट्रैटजिक एसेट होते हैं।"

 

"भारत अब कमजोर नहीं रहा। भारत अब दुनिया का ताकतवर देश बन चुका है।"

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

The Rising News

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll