Home National News New Rule Of Indian Railway For Train Passengers Sleeping Time

PNB महाघोटाला: देश के 15 शहरों में 45 ठिकानों पर ED की छापेमारी

सुकमा एनकाउंटर: नक्सलियों ने की रोड कंस्ट्रक्शन कंपनी के मैनेजर की हत्या

सनातन धर्म को लोग हिन्दू धर्म कहते हैं, यह हमसे चिपक गया है: मोहन भागवत

छत्तीसगढ़: सुकमा में नक्सलियों से मुठभेड़ में 6 सुरक्षाकर्मी घायल

PNB घोटाला: दिल्ली के साकेत मॉल, वसंतकुंज और रोहिणी में ED की छापेमारी

रेलवे का ये नियम जान उड़ जाएगी आपकी नींद...

National | 17-Sep-2017 04:53:45 PM | Posted by - Admin

   
New Rule of Indian Railway For Train Passengers Sleeping Time

दि राइजिंग न्‍यूज

नई दिल्ली।

 

भारतीय रेल में सफर करने वालों के लिए एक ऐसी जो आपकी नींद उड़ा सकती है। रेल में सफर करने के दौरान सोने को लेकर आपने कई बार झगड़े होते देखे होंगे, इस झगड़े को कम करने के लिए रेलवे ने सोने के आधिकारिक समय में एक घंटे की कटौती कर दी है।

 

 

रेलवे बोर्ड की ओर से जारी सर्कुलर के मुताबिक आरक्षित कोचों के यात्री अब रात 10 बजे से लेकर सुबह छह बजे तक ही सो सकते हैं, ताकि अन्य लोगों को सीट पर बाकी बचे घंटों में बैठने का मौका मिले। इससे पहले सोने का आधिकारिक समय रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक था।

 

 

31 अगस्त को जारी सर्कुलर में कहा गया है, “आरक्षित कोचों में सोने की सुविधा रात में 10 बजे से लेकर सुबह छह बजे तक है और बाकी बचे समय में दूसरे आरक्षित यात्री इस सीट पर बैठ सकते हैं।” सर्कुलर में हालांकि कुछ निश्चित यात्रियों को छूट दी गई है।

 

 

इसमें कहा गया है, “यात्रियों से बीमार, दिव्यांग और गर्भवती महिला यात्रियों के मामले में सहयोग का आग्रह किया गया है जिससे अगर वे चाहें तो अनुमति वाले समय से ज्यादा चाहें तो सो सकें।” इस नए प्रावधान ने भारतीय रेलवे वाणिज्यिक नियमावली, खंड एक के पैराग्राफ 652 को हटा दिया है। इससे पहले इस प्रावधान के अनुसार यात्री रात के नौ बजे से लेकर सुबह छह बजे तक सो सकते थे।

 

 

सोने की सुविधा वाले सभी आरक्षित कोचों में ही लागू

मंत्रालय के प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने कहा, “हमें सोने के प्रबंध को लेकर यात्रियों की परेशानी के बारे में अधिकारियों से फीडबैक मिला था। हमारे पास पहले ही इसके लिए एक नियम है। हालांकि हम इसे स्पष्ट कर देना चाहते थे और सुनिश्चित करना चाहते थे कि इसका पालन हो।” उन्होंने कहा कि यह प्रावधान शयन सुविधा वाले सभी आरक्षित कोचों में लागू होगा।

 

 

वहीं एक अन्य रेलवे अधिकारी ने कहा कि सोने के समय में एक घंटे की कटौती इसलिए की गई क्योंकि कुछ यात्री ट्रेन में चढ़ने के साथ ही अपनी सीट पर सो जाते थे, चाहे वह दिन हो या रात. इससे ऊपर या बीच की सीट के यात्रियों को असुविधा होती थी।

 

मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि इस नए निर्देश से ट्रैवलिंग टिकट एग्जामिनर (टीटीई) को भी अनुमति वाले समय से अधिक सोने से संबंधित विवादों को सुलझाने में आसानी होगी।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news