Neha Kakkar Reveald Her Emotional Connection with Indian Idol

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

आधार कार्ड की सुरक्षा को लेकर अंग्रेजी अखबार “द ट्रिब्यून” की एक खबर ने पूरी तरह से तहलका मचा दिया है। इस खबर को करने वाली पत्रकार रचना खेड़ा पर एफआइआर दर्ज हुई, जिसके बाद सरकार को भी सफाई देनी पड़ी। अब इस मामले में इंटरनेट की दुनिया में अपने खुलासों से सभी को चौंकाने वाले कंप्यूटर प्रोफेशनल एडवर्ड स्नोडेन ने भी अखबार की इस रिपोर्ट का समर्थन किया है।

 

(कंप्यूटर प्रोफेशनल एडवर्ड स्नोडेन)

एडवर्ड स्नोडेन ने ट्वीट किया कि जिन पत्रकारों ने आधार लीक मामले को उजागर किया है वह अवॉर्ड के हकदार हैं, किसी जांच के नहीं। अगर सरकार इस मामले में सही में न्याय के लिए चिंताजनक है तो उन्हें अपनी आधार को लेकर नीतियों में सुधार करना चाहिए, जिन्होंने करोड़ों लोगों की निजता को खतरे में डाला है। उन्होंने लिखा कि अगर किसी को गिरफ्तार करना ही है तो वे UIDAI ही है।

कौन हैं स्नोडेन?

अपने खुलासों से सबको चौंकाने वाले एडवर्ड स्नोडेन मास्को में रहते हैं। वो अमेरिकी एनएसए के लिए काम कर चुके हैं। फेमस कंप्‍यूटर प्रोफेशनल स्नोडेन को एनएसए संबंधित गुप्त जानकारी लीक करने के आरोपों के बीच अमरीका से पलायन कर गए थे। उन्हें अमेरिका ने भगोड़ा घोषित किया हुआ है।

 

आपको बता दें कि इससे पहले भी स्नोडेन ने आधार को लेकर चिंता व्यक्त की थी। उन्होंने लिखा था कि भारत में आधार का गलत इस्तेमाल हो सकता है।

गौरतलब है कि अंग्रेजी अखबार “द ट्रिब्यून” की रिपोर्टर रचना खेड़ा ने अपनी रिपोर्ट में यह उजागर किया था कि किस तरह चंद रुपयों के लिए करोड़ों आधार कार्ड की जानकारी को बेचा जा रहा है। इस खबर के बाद से ही लगातार आधार की सुरक्षा पर सवाल खड़े हो रहे थे। यूआइडीएआइ की ओर से अखबार और रिपोर्टर के खिलाफ शिकायत दर्ज करने की आलोचना की जा रही थी।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll