Complaint Filed Against Aditya Pancholi At Versova Police Station

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

गूगल ने आज भारतीय वैज्ञानिक प्रफेसर हर गोविंद खुराना का डूडल बनाकर याद किया है। 9 जनवरी 1922 को पंजाब में जन्मे प्रफेसर खुराना ने सबसे प्रोटीन सेंथेसिस में न्यूक्लियॉटाइड के महत्व को समझाया था। इसके अलावा उन्होंने ही टेस्ट ट्यूब बेबी का भी परीक्षण कर, इसकी संभावनाएं तलाशी थीं।

विज्ञान के क्षेत्र में इनके योगदान के लिए सन 1968 में चिकित्सा क्षेत्र के नोबल प्राइज से भी सम्मानित किया गया। इसके अलावा पद्म विभूषण, विलियर्ड गिब्स अवार्ड, अलबर्ट लास्कर अवार्ड और गैर्डनर फाउंडेशन इंटरनैशनल अवार्ड जैसे ढेरों पुरस्कारों से सम्मानित किया गया।

जीन स्टडी और डीएनए ऐनालिसिस विशेषज्ञ डॉ. हर गोविंद को भारत में काम के सही मौके ना मिल पाने पर वह कैम्ब्रिज यूनिवर्स्टी चले गए और वहीं रहकर काम करने लगे। मॉलिक्युलर बायॉलजी में तमाम अध्ययन और रिसर्च करने वाले प्रफेसर खुराना की मौत 9 दिसंबर 1911 को हुई।

https://www.therisingnews.com/?utm_medium=thepizzaking_notification&utm_source=web&utm_campaign=web_thepizzaking&notification_source=thepizzaking

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement