Home National News Contradiction Between Donald Trump And Narendra Modi

करणी सेना का दावा, संजय लीला भंसाली ने "पद्मावत" देखने का भेजा न्यौता

MLA ने एक रुपया भी सैलरी नहीं ली: मनीष सिसोदिया

पुंछ: पाक सीजफायर उल्लंघन के चलते बंद किए गए 120 स्कूल

बिना सबूत EC ने कैसे दिया MLAs को अयोग्य घोषित करने का सुझाव: सिसोदिया

अब CJI जस्टिस दीपक मिश्रा खुद करेंगे लोया मौत केस की सुनवाई

इधर नोटबंदी उधर डोनाल्ड ट्रंप, दोनों को मिली शेयर बाजार की सलामी

National | 08-Nov-2017 15:25:32 | Posted by - Admin
   
Contradiction Between Donald Trump and Narendra Modi

दि राइजिंग न्यूज़   

नई दिल्ली।

 

8 नवंबर 2016 भारत और अमेरिका के लिए बेहद अहम था। एक तरफ जहां दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र अमेरिका में नए राष्ट्रपति का चुनाव हुआ वहीं दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में लगभग 86 फीसदी करेंसी को अमान्य घोषित करते हुए नोटबंदी का ऐलान कर दिया गया। इन दोनों ही घटनाओं का व्यापक आर्थिक असर होने का कयास लगाया गया लेकिन एक साल बाद कुछ आर्थिक मानदंड़ों पर सच्चाई कुछ और देखने को मिल रही है।

 

गौरतलब है कि डोनाल्ड ट्रंप के चुने जाने के बाद माना गया कि इससे वैश्विक अर्थव्यवस्था के साथ-साथ अमेरिकी अर्थव्यवस्था को बड़ा नुकसान पहुंचेगा। जिस तरह डोनाल्ड ट्रंप ने प्रचार के दौरान संरक्षणवादी नीतियों का संकेत देते हुए मेक्सिको की सरहद पर दीवार खड़ी करने और विदेशी नागरिकों को खदेड़ भगाने की कवायद की माना गया कि ट्रंप का कार्यकाल अमेरिकी कारोबार के लिए बड़ी चुनौती लेकर आएगा।

लेकिन इस एक साल के दौरान अमेरिकी शेयर बाजार के प्रमुख इंडेक्स डॉओ जोन्स के आंकड़ों पर नजर डालें तो अमेरिकी कारोबार की दिखने वाली झलकी उलटी कहानी बयान करती है। एक साल के दौरान अमेरिकी शेयर बाजार के इस प्रमुख इंडेक्स ने 18,000 के स्तर से ऊपर बढ़ते हुए लगभग 24,000 के स्तर के नजदीक पहुंच चुका है। इस एक साल के दौरान इस इंडेक्स में लगभग 28 फीसदी की उछाल देखने को मिली है।

 

वहीं 8 नवंबर 2016 को भारत में नोटबंदी के ऐलान के बाद कई अर्थशास्त्रियों ने दावा किया कि यह कदम भारतीय कारोबार को पीछे ढकेल देगा। नोटबंदी को विपक्षी पार्टियों ने मूर्खतापूर्ण कदम तक घोषित कर दिया। वहीं वैश्विक स्तर पर वित्तीय संस्थाओं समेत केन्द्रीय रिजर्व बैंक ने भी पर्याप्त संकेत दिए कि इस कदम का नकारात्मक असर देखने को मिलेगा।

अब जब नोटबंदी के एक साल पूरे हो चुके हैं तो भारतीय शेयर बाजार अलग ही कहानी बयान कर रहा है। बीते एक साल के दौरान भारतीय शेयर बाजार के प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स ने 28,000 के स्तर से शुरुआत करते हुए 33,000 के स्तर को पार कर लिया। इस एक साल के दौरान सेंसेक्स पर लगभग 21 फीसदी की उछाल दर्ज हुई है।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news