Home National News China Spokesperson Reaction Over Indo Japan Friendship

J-K: बांदीपुरा ऑपरेशन में 1 जवान शहीद

J-K: बांदीपुरा मुठभेड़ में आतंकी लखवी का भांजा ढेर

दयाल सिंह कॉलेज का नाम बदलने पर सिसोदिया बोले, अतीत प्रेम से बीमार है केंद्र

दाऊद की संपत्ति की नीलामी पर कंपनी को कोई एतराज़ नहीं: छोटा शकील

सोनिया गांधी ने 20 नवंबर को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक बुलाई

चीन की धमकी- तीसरा पक्ष बिलकुल मंज़ूर नहीं  

National | 16-Sep-2017 02:00:39 PM | Posted by - Admin

   
China Spokesperson Reaction over Indo Japan Friendship

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

चीन की तरफ से शुक्रवार को एक बयान जारी किया गया है। इस बयान में कहा गया है कि वह भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र में जापान सहित किसी भी विदेशी निवेश का विरोध करता है और भारत के साथ अपने सीमा विवाद को सुलझाने में किसी तीसरे पक्ष के शामिल होने के विरुद्ध है। चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे की भारत यात्रा के दौरान पूर्वोत्तर राज्यों में निवेश की जापान की योजना पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि चीन “विवादित क्षेत्रों”  में किसी भी विदेशी निवेश का विरोध करता है।

प्रवक्ता ने कहा, “आपने एक्ट ईस्ट नीति का भी जिक्र किया है। आपको यह स्पष्ट होना चाहिए कि भारत और चीन सीमा क्षेत्र की सीमा पूरी तरह निर्धारित नहीं है। हमारे बीच सीमा के पूर्वी खंड पर मतभेद है।”

 

हुआ ने कहा, “हम बातचीत के जरिए ऐसे समाधान की तलाश कर रहे हैं जो दोनों पक्षों को मंजूर हो। ऐसी परिस्थितियों में विभिन्न पक्षों को इन पहलुओं का सम्मान करना चाहिए और विवादों को हल करने के हमारे प्रयासों में किसी तीसरे पक्ष को शामिल नहीं किया जाना चाहिए।”

मालूम हो कि चीन अरुणाचल प्रदेश को दक्षिणी तिब्बत कहता है और उस पर दावा करता है। प्रवक्ता ने कहा, “स्पष्ट तौर पर कहूं तो हम जापानी प्रधानमंत्री की भारत यात्रा पर करीब से नजर रख रहे हैं। मैंने साझा बयान को बेहद सावधानी के साथ पढ़ा है, लेकिन मुझे बयान में कहीं भी चीन का जिक्र नहीं दिखा।”

हालांकि उन्होंने उम्मीद जताई कि भारत और जापान के बीच नजदीकी संबंध क्षेत्रीय शांति और स्थायित्व के हित में होंगे। हुआ ने कहा, “मुझे यह भी कहना चाहिए कि भारत और जापान एशिया के महत्वपूर्ण देश हैं। हमें उम्मीद है कि संबंधों का सामान्य विकास क्षेत्रीय शांति और विकास के लिए हितकर होगा। साथ ही इस प्रक्रिया में रचनात्मक भूमिका अदा करेगा।”

गौरतलब है कि चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता के इस बयान से पहले ही भारत-जापान की इस दोस्ती पर चीनी मीडिया नाराज हुआ था। चीनी मीडिया ने इस दोस्ती पर लिखा था कि ये दोनों देश मिलकर भी चीन को चुनौती नहीं दे सकते हैं और इसे गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं है। ग्लोबल टाइम्स ने अपने संपादकीय में लिखा कि आज के संदर्भ में भारत-जापान की नजदीकी एक किस्म का जुगाड़ है। अखबार लिखता है कि डोकलाम विवाद के बाद भारत की ओर से अमेरिका और जापान से रिश्ते प्रगाढ़ करने की कोशिश चीन के सामने भारत की रणनीतिक असुरक्षा को दर्शाती है।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555



संबंधित खबरें



HTML Comment Box is loading comments...

Content is loading...




TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll


What-Should-our-Attitude-be-Towards-China


Photo Gallery
गोमती तट पर दीप आरती करती महिलाएं। फोटो- अभय वर्मा



Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news


sex education news