Home National News India Connected To Tir Convention

जम्मू-कश्मीर के डोडा में सीजन की पहली बर्फबारी

आरक्षण पर सवाल पूछे जाने पर राहुल गांधी ने नहीं दिया जवाब: रविशंकर प्रसाद

गुजरात की जनता नकारात्मकता का जवाब देगी: पीएम मोदी

राज्यसभा से सदस्यता रद्द होने के मुद्दे पर हाईकोर्ट पहुंचे शरद यादव

उत्तराखंड के ऊंचाई वाले इलाकों में आज और कल ताजी बर्फबारी होगी: मौसम विभाग

भारत बना टीआईआर कन्वेंशन से जुड़ने वाला 71वां देश

National | 20-Jun-2017 12:31:26 PM | Posted by - Admin

   
India connected to tir convention

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।


भारत को सोमवार को एक बड़ी उपलब्धि मिली। दरअसल, देश, संयुक्त राष्ट्र के टीआईआर कन्वेंशन से जुड़ने वाला 71वां देश बन गया है। टीआईआर कन्वेंशन से दक्षिण एशिया एवं उसके बाहर भारत को अपने व्यापार को बढ़ाने में मदद मिलेगी। इससे साथ-साथ व्यापारिक केंद्र बनने की भारत की स्थिति मजबूत होगी।

 

भारत की कई कनेक्टिविटी परियोजनाओं को अलग-अलग देशों की ट्रांसपोर्ट और कस्टम सिस्टम के हिसाब से नहीं होने के कारण परेशानी का सामना करना पड़ता था। टैक्स और ड्यूटी पे किए बिना किसी भी अंतर्राष्ट्रीय सीमा से माल को नहीं ले जाया जा सकता है। टीआईआर को लागू करने के बाद भारत को इन परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा। टीआईआर कन्वेंशन एक परिवहन समझौते से बहुत अधिक है और एक मजबूत विदेशी नीति तत्व है।

 

आईआरयू ने किया टीआईआर को विकसित

दुनिया में जहां चीन का वन बेल्ट वन रोड(ओबीओआर) परियोजना डोमिनेंटिंग प्रोजेक्ट है। अगर भारत को एक ताकतवर उभरती शक्ति के रूप में आना है, तो भारत को एक बेहतर तरीके से काम करने की जरूरत है। टीआईआर माल परिवहन के लिए मानक है जिसका प्रबंधन विश्व सड़क परिवहन संगठन (आईआरयू) के हाथों में है। आईआरयू ने ही टीआईआर विकसित किया है।

 

आईआरयू ने टीआईआर किया भारत का स्वागत

आईआरयू के महासचिव उमबेर्टो डि प्रेटो ने कहा, “मैं देशों के टीआईआर में भारत का स्वागत करता हूं। यह दक्षिण एशिया में परिवहन, व्यापार और विकास के सिलसिले में तालमेल एवं प्रोत्साहन की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। टीआईआर भारत को म्यांमार, थाइलैंड,बांग्लादेश, भूटान और नेपाल के साथ व्यापारिक लेनदेन में मदद करेगा।

 

अलग-अलग देशों के साथ परिवहन और कस्टम सिस्टम को अलग कर देना भारत की कनेक्टिविटी परियोजनाओं के लिए लगातार समस्याओं में से एक है। एक बार सिस्टम वैश्विक मानदंडों के साथ एकीकृत हो जाते हैं, भारत का मानना ​​है कि डीएमआईसी (दिल्ली-मुंबई औद्योगिक कॉरिडोर) ऑनलाइन आने पर अफ्रीकी और एशियाई बाजारों की सेवा करना आसान हो जाएगा।

 

चीन के ओबीओआर का सामना करने के लिए भारत के पास एक मजबूत हथियार है। इससे भारत के इंटरनेशनल नॉर्थ-साउथ ट्रांसपॉर्ट कॉरिडोर (आईएनएसटीसी) और चाबहार प्रॉजेक्ट को नई दिशा मिलेगी, जिस पर भारत काफी लम्बे समय से काम कर रहा है।


यह भी पढ़ें

बीजेपी का दलित कार्ड, कोविंद होंगे राष्ट्रपति

दलित के बदले दलितविपक्ष की ओर से मीरा कुमार

होटल ताज को मिला ट्रेडमार्क

जब गोरे उर्दू नहीं बोल सकते, तो हम अंग्रेजी क्‍यों बोलें

फ्लाइट में महिला से की अश्‍लीलता, धरा गया

केरल फंसा वायरल फीवर की चपेट में

जिंदा हो गया मृत बच्‍चा!

बदसलूकी करने वाले सांसद के उड़ने पर लगा बैन

जादू के नाम पर छूता था महिलाओं का प्राइवेट पार्ट्स, धरा गया

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news




sex education news